पुलिस द्वारा फरार आरोपियों के विरूद्ध प्रभावी कार्यवाही…

क्राईम ब्रांच ग्वालियर एवं थाना कम्पू पुलिस ने फरारी आरोपी को किया गिरफ्तार

ग्वालियर। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ग्वालियर के निर्देष पर ग्वालियर पुलिस द्वारा फरार आरोपियों के विरूद्ध प्रभावी कार्यवाही की जाती है। दिनांक 13.05.2022 को वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ग्वालियर अमित सांघी को जरिये मुखबिर सूचना प्राप्त हुई कि थाना कम्पू के अप.क्र. 182/21 धारा 306 भादवि में फरार आरोपी को पड़ाव चैराहे पर देखा गया है। उक्त सूचना पर से वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ग्वालियर द्वारा अति. पुलिस अधीक्षक शहर पूर्व/अपराध राजेष डण्डोतिया को अति. पुलिस अधीक्षक शहर दक्षिण मृगाखी डेका के साथ समन्वय स्थापित कर क्राईम ब्रांच एवं थाना कम्पू की टीम बनाकर उक्त आरोपी की गिरफ्तारी हेतु निर्देषित किया गया। 

वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देष के परिपालन उप पुलिस अधीक्षक अपराध रत्नेष सिंह तोमर एवं नगर पुलिस अधीक्षक इंदरगंज विजय सिंह भदौरिया के मार्गदर्षन में थाना प्रभारी कम्पू निरी. रामनरेष यादव एवं प्रभारी क्राईम ब्रांच निरी. आर.बी.एस. बिमल द्वारा थाना कम्पू व क्राईम ब्रांच की संयुक्त टीम बनाकर मुखबिर के बताये स्थान पड़ाव चैराहे पर भेजा गया। पुलिस टीम को पड़ाव चैराहे पर एक संदिग्ध व्यक्ति खड़ा मिला जिसने पुलिस टीम को देखकर भागने का प्रयास किया। परन्तु पुलिस टीम द्वारा उक्त आरोपी को घेराबंदी कर धरदबोच लिया गया। पकड़े गये आरोपी ने स्वंय को गोसपुरा नं.1 का निवासी होना बताया। 

पुलिस टीम द्वारा उक्त आरोपी को थाना कम्पू के अपराध क्रमांक 182/22 धारा 306 भादवि के प्रकरण में गिरफ्तार किया जाकर उससे प्रकरण में फरार बाकी आरोपियों के संबंध में पूछताछ की जा रही है। थाना कम्पू पुलिस द्वारा उक्त प्रकरण के 07 आरोपियों को पूर्व में ही गिरफ्तार किया जा चुका है। ज्ञात हो कि दिनांक 23/02/2021 की दोपहर जेएएच के आकस्मिक उपचार विभाग में कन्हैयालाल पुत्र बाबूलाल उम्र 59 साल निवासी निम्बालकर की गोठ को घायल अवस्था में उसके भाई द्वारा भर्ती कराया गया था। जिसकी उपचार के दौरान मृत्यू हो गई थी। 

जेएएच के ड्यूटी डाॅक्टर की सूचना पर से थाना कम्पू द्वारा मर्ग क्रमांक 08/21 धारा 174 जाफौ कायम कर विवेचना में लिया गया। दौराने विवेचना मृतक के परिवारजनों के कथनों एवं मृतक के सुसाइड नोट से पुलिस को ज्ञात हुआ कि कुछ लोगों द्वारा मृतक को जो रकम ब्याज पर दी गई थी उसका ब्याज अधिक बसूलने के लिये मृतक को निरंतर प्रताड़ित किया जा रहा था। जिस वजह से मृतक आत्महत्या के लिये उत्प्रेरित हुआ। मर्ग की विवेचना, मृतक के सुसाइड नोट एवं परिजनों के कथनों के अनुसार थाना कम्पू पुलिस द्वारा 14 लोगों के विरूद्ध अपराध क्रमांक 182/22 धारा 306 भादवि का प्रकरण पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया।