आम लोगों को दिवाली का तोहफा…

केंद्र सरकार ने पेट्रोल और डीजल एक्साइज ड्यूटी घटाई

पेट्रोल और डीजल की आसमान छूती कीमतों से आम लोगों को बड़ी राहत मिली है। दिवाली से एक दिन पहले केंद्र सरकार ने पेट्रोल-डीजल की कीमतों में राहत देने का फैसला किया है। सरकार ने पेट्रोल पर 5 रुपए और डीजल पर 10 रुपए एक्साइज ड्यूटी कम करने का ऐलान किया है। नई कीमतें दिवाली के दिन यानी कल से लागू हो जाएंगी। बता दें कि पेट्रोल और डीजल की कीमतें अब तक के उच्चतम स्तर पर हैं। केंद्र सरकार द्वारा पेट्रोल और डीजल पर एक्साइज ड्यूटी कम करने के बाद मध्य प्रदेश में पेट्रोल पर 6.50 रुपए और डीजल पर करीब 12.50 रुपए की कमी आएगी। मध्यप्रदेश पेट्रोल पंप एसोसिएशन के अध्यक्ष अजय सिंह ने बताया कि बेसिक कीमत कम होने से इसका असर पड़ता है। सभी शहरों में वर्तमान में जो दाम हैं, उसके दाम इतने ही कम हो जाएंगे। 

उदाहरण के लिए भोपाल में वर्तमान में पेट्रोल के दाम 118.83 रुपए है। कम होने के बाद दाम 112.33 रह जाएगा। वहीं डीजल की कीमत 107.90 रुपए है। कम होने के बाद 95.40 रुपए रह जाएगा। आज छोटी दिवाली के दिन आम लोगों को राहत मिली है। हफ्ते के तीसरे दिन पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कोई भी बढ़ोतरी नहीं की गई है। डीजल कई शहरों में 110 रुपए के पार और पेट्रोल 121 के पार पहुंच चुका है। दिल्ली में पेट्रोल 110 रुपए प्रति लीटर के पार पहुंच गया है। वहीं, डीजल 98.42 रुपए प्रति लीटर पर बिक रहा है। आखिरी बार 5 सितंबर को दाम कम किए गए थे, तब देश के कई शहरों में पेट्रोल-डीजल 15 पैसे तक सस्ता हुआ था। बीते सितंबर महीने की 28 तारीख को पेट्रोल जहां 20 पैसे महंगा हुआ था, वहीं डीजल भी 25 पैसे प्रति लीटर महंगा हुआ था। 

दरअसल, सितंबर के अंतिम दिनों से जो पेट्रोल की कीमतें बढ़नी शुरू हुईं, वह मंगलवार तक जारी रहीं। पेट्रोल की कीमतों में देखें तो 28 दिनों में ही यह 8.85 रुपए प्रति लीटर महंगा हो चुका है। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की कीमत में बढ़ोतरी से देश में पेट्रोल-डीजल की कीमत रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच चुकी हैं। सूत्रों के मुताबिक, एक्साइज ड्यूटी में कटौती के बाद केंद्र सरकार ने राज्यों से पेट्रोल-डीजल पर वैट घटाने की अपील की है, ताकि लोगों को महंगाई से निजात मिल सके। अलग-अलग राज्य सरकारें 20 से 35% तक वैट वसूलती हैं। केंद्र सरकार के मुताबिक डीजल पर एक्साइज ड्यूटी के घटने से किसानों को सबसे ज्यादा फायदा होगा, क्योंकि जल्द ही रबी फसल की बुआई होने वाली है। इस कटौती का सबसे बड़ा फायदा किसानों को मिलने वाला है।