चयनित विद्यार्थियाें को राज्यपाल देंगे उपाधि…

शुक्रवार को होगाजीवाजी यूनिवर्सिटी में दीक्षांत समारोह

जीवाजी विश्वविद्यालय का दीक्षांत समारोह का आयोजन शुक्रवार को जेयू के अटल बिहारी वाजपेयी इंटरनेशनल कन्वेंशन सेंटर में सुबह 11:50 बजे से दोपहर 1:27 बजे तक किया जाएगा। कार्यक्रम की अध्यक्षता कुलाधिपति व प्रदेश के राज्यपाल मंगूभाई छगनभाई पटेल करेंगे। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर मौजूद रहेंगे। विशिष्ट अतिथि के रूप में मप्र के उच्च शिक्षा मंत्री डा.मोहन यादव, राज्य ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर, उद्यानिकी मंत्री भारत सिंह कुशवाह और लोकसभा सांसद विवेक नारायण शेजवलकर उपिस्थत रहेंगे। दीक्षांत शपथ जेयू की कुलपति प्रो. संगीता शुक्ला द्वारा दिलाई जाएगी। कोरोना संक्रमण को देखते हुए समारोह भवन में संख्या कम रखी जाएगी।

विद्यार्थी अपने साथ परिजन या पति/पत्नि को साथ ला सकते हैं। समारोह में हिस्सा लेने वालो काे मास्क अनिवार्य रूप से लगाना होगा। प्रवेश द्वार पर सेनेटाइजर की व्यवस्था की जाएगी। कार्यक्रम के दौरान सेल्फी या फोटोसेशन पर पाबंदी रहेगी। भवन के बाहार आकर फोटोसेशन कर सकेंगे। दीक्षांत समारोह में कुलाधिपति राज्यपाल मंगूभाई छगनभाई पटेल का आगमन एवं उनकी अध्यक्षता में कार्यपरिषद की विशेष बैठक सुबह 11:50 बजे आयोजित की जाएगी। 

कुलाधिपति एवं मुख्य अतिथि एवं अन्य अतिथि सुबह 11:55 बजे निर्धारित वस्त्र धारण करना,दोपहर 12 बजे दीक्षांत शोभायात्रा का सभागार में प्रवेश 12:05 बजे राष्ट्रगान एवं यूनिवर्सिटी का कुलगीत,12:07 बजे विद्यार्थियों को उपाधि प्रदान करना तथा शपथ,12:40 बजे कुलाधिपति द्वारा पदक वितरण,1 बजे उच्च शिक्षा मंत्री मोहन सिंह यादव का संबोधन,1:05 मुख्यअतिथि कंद्रीय कृषि मंत्री का उद्बोधन,1:12 बजे अतिथियों का सम्मान,1:16 बजे कुलाधिपति का संबोधन,1:25 बजे समापन और 1:27 बजे शोभायात्रा का समारोह स्थल से प्रस्थान करेगी। 

जेयू के दीक्षांत समारोह में वर्ष 2018-19 और 2019-20 की डिग्री के साथ-साथ गोल्ड मैडल और नकद पुरस्कार प्रदान किए जाएंगे। कार्यक्रम में पीएचडी के 180, एमफिल के 13, पीजी के 228 छात्रों को डिग्री प्रदान की जाएगी। इसके अलावा वर्ष 2018-19 के 49 विद्यार्थी को गोल्ड मैडल प्रदान किए जाएंगे, जिनमें 14 यूजी के जबकि 35 पीजी के छात्र-छात्राएं शामिल हैं। इनमें प्रायोजित गोल्ड मैडल 16 हैं। वर्ष 2019-20 के कुल 51 छात्रों को स्वर्ण पदक प्रदान किए जाएेंगे। जिनमें 16 यूजी के, जबकि 35 पीजी के छात्र शामिल हैं। इनमें प्रायोजित स्वर्ण पदक 18 हैं। दीक्षांत में कुछ छात्रों को नकद पुरस्कार भी प्रदान दिए जाएंगे। इनमें 2018-19 के तीन, जबकि 2019-20 के चार छात्र-छात्राओं को ये पुरस्कार दिए जाएंगे।