गरीबों के हक के राशन की हेराफेरी लगातार जारी…

बाढ़ पीड़ितों का 'निवाला' डकार गया डीलर, दो माह की पर्ची पर दिया एक महीने का राशन

शिवपुरी। जिले में राशन दुकानों पर गरीबों के हक के राशन की हेराफेरी लगातार जारी है, जिसे रोकने में प्रशासन पूरी तरह से नाकाम साबित हो रहा है. जिले में भीषण बाढ़ की त्रासदी झेल रहे गांवों में भी गरीब परिवारों को उनके हक का राशन नहीं मिल पा रहा है. ताजा मामला शिवपुरी के ग्राम टोंगरा से सामने आया है, जहां बाढ़ और अतिवृष्टि की मार झेल रहे गरीब परिवारों को पिछले 6 महीनों से राशन नहीं मिला है। सरकार हर महीने राशन भिजवा रही है. वहीं केंद्र सरकार द्वारा भी बाढ़ पीड़ित परिवारों को प्रधानमंत्री खाद्य सुरक्षा योजना अंतर्गत प्रति व्यक्ति 5 किलो फ्री राशन भिजवा रही है. इसके बावजूद भी टोंगरा गांव की शासकीय उचित मूल्य की दुकान का सेल्समैन गरीब परिवारों को राशन का वितरण नहीं कर रहा था. 

जिसकी शिकायत ग्रामीणों ने कलेक्टर कार्यालय पर पहुंचकर अधिकारियों से की। टोंगर गांव में बाढ़ और अतिवृष्टि के कारण फसलें पूरी तरह से चौपट हो गई हैं. गरीब खासकर आदिवासी परिवार दाने-दाने के लिए मोहताज हो रहे हैं. वही राशन दुकान का सेल्समैन गजेंद्र रावत गरीबों को उनके हक का राशन नहीं दे रहा था. लगातार दो दिन शिकायत के बाद सेल्समैन गरीबों को राशन देने के लिए तैयार हुआ, तो इसमें भी सेल्समैन द्वारा हेराफेरी की जा रही थी। राशन वितरण पर्ची पर 2 महीने का राशन दर्ज कर ग्रामीणों से अंगूठा लगवा कर 1 महीने का ही राशन बांटा जा रहा था. 

इस दौरान कुछ ग्रामीणों ने सेल्समैन की इस गड़बड़ी को पकड़ लिया और वीडियो बना लिया तो सेल्समैन ने ग्रामीणों के अंगूठा लगे पर्ची फाड़ कर फेंक दी.ग्रामीणों ने बताया कि सेल्समैन द्वारा घर-घर जाकर पीएसओ मशीन पर उनके अंगूठे के निशान लगवा लिए गये. साथ ही कहा कि जब राशन आएगा तब आपको बुला लिया जाएगा, लेकिन पिछले 6 महीने से सेल्समैन कई गरीब आदिवासी लोगों को यह कहकर लौटा देता है कि तुम्हारा राशन नहीं आया है। इस प्रकार सेल्समैन कई गरीब लोगों का राशन हड़प कर चुका है. इस संबंध में शिवपुरी फूड ऑफिसर खुशबू शुक्ला का कहना है कि राशन दुकान के सेल्समैन की शिकायत प्राप्त हुई है. जांच के बाद न केवल सेल्समैन के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी, बल्कि गरीबों को उनके हक का राशन भी दिलवाया जाएगा।