संक्रमण की चेन तोड़ने हेतु कर्फ्यू में लोगों का भी पूरा सहयोग रहा…

कोरोना कर्फ्यू के दूसरे दिन भी सख्ती से हुआ पालन, बंद रहे बाजार

ग्वालियर। कोरोना कर्फ्यू के दूसरे दिन भी शुक्रवार को प्रशासनिक अमले ने कड़ाई से नियमों का पालन कराया। साथ ही शहर के लोगों ने भी संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए लगाए गए कर्फ्यू में पूरा सहयोग किया। व्यापारियों ने अपने संस्थान पूरी तरह से बंद रखे। सड़कों पर आवाजाही भी कम दिखी। कुछ लोगों ने दुकानें खोलने का प्रयास किया तो पुलिस और प्रशासन के अमले ने ऐसे लोगों के साथ सख्ती की। 

बिना कारण के सड़कों पर निकले लोगों से भी पुलिस ने चैराहों पर रोककर पूछताछ की। कोरोना कर्फ्यू का पालन कराने के लिए सुबह से इंसीडेंट कमांडर्स व पुलिस की टीमें अपने-अपने क्षेत्रों में सक्रिय हो गई थीं। कोरोना कफर््यू के दूसरे दिन शहर में ज्यादातर व्यापारियों ने नियमों का पालन कर प्रशासन का सहयोग किया। शहर के नदी गेट, छप्परवाला पुल पाटनकर चैराहे जैसे इलाकों में सुबह पुलिस को नहीं दिखी लेकिन यहंा ज्यादाकर दुकानें बंद रहीं। 

हालंाकि महाराज बाड़े पर पुलिस चैकी के पास चेकिंग पॉइंट लगाकर जरूर राहगीरों से पूछताछ की गई। वहीं माधौगंज थाने के बाहर चैराहे पर ही पुलिसकर्मी वाहन चालकों को रोककर बाहर निकलने का कारण पूछ रहे थे। फूलबाग चैराहे पर पुलिसकर्मी तो तैनात थे। लेकिन एक भी वाहन चालक को रोककर बाहर निकलने का कारण नहीं पूछा गया। कुछ वाहन चालक बिना मास्क के निकले। 

थाटीपुर से मुरार तक सुबह से 10 बजे दूध, सब्जी, बेकरी आयटम की दुकानें खुली रहीं। अधिकारियों को सूचना मिली कि मुरार क्षेत्र में नाश्ते की दुकानें खुली हैं तो इंसीडेंट कमांडर्स की टीम क्षेत्र में पहुंची। लेकिन कोई दुकान खुली नहीं मिली। वहीं महाराज बाड़ा, दौलतगंज, नई सड़क, सराफा बाजार, डीडवाना ओली, गस्त का ताजिया, फालका बाजार, शिंदे की छावनी समेत अन्य क्षेत्रों के सभी बड़े बाजार पूरी तरह बंद रहे। शिंदे की छावनी समेत कुछ क्षेत्रों में सब्जी-फल के ठेले दिन में भी लगे रहे।