बैड न मिले तो चिंतत न हों अस्पतालों के तमाम विकल्प…

चिंतित न हों मरीज़ शहर में इलाज के लिए पर्याप्त बैड उपलब्ध : श्री सिंह

ग्वालियर। कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज के लिये ग्वालियर शहर में स्थित सरकारी एवं प्राइवेट अस्पतालों में ऑक्सीजन सहित पर्याप्त संख्या में बैड उपलब्ध हैं। वर्तमान में शहर में सरकार द्वारा संचालित 14 स्वास्थ्य संस्थाओं सहित 57 प्राइवेट अस्पतालों में 2 हजार 154 बैड खाली हैं। जिला प्रशासन ने बढ़ते हुए संक्रमण को ध्यान में रखकर भविष्य के लिये भी पुख्ता तैयारी कर ली है। एहतियात बतौर विभिन्न नर्सिंग कॉलेज एवं संस्थाओं में कोरोना मरीजों के इलाज के लिये पैरामेडीकल स्टाफ, चिकित्सक व ऑक्सीजन सहित पर्याप्त संख्या में अतिरिक्त बैड का इंतजाम जिला प्रशासन द्वारा कर लिया गया है। कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने नर्सिंग होम एसोसिएशन इत्यादि संगठनों से चर्चा कर अपोलो, केडीजे हॉस्पिटल, कल्याण मल्टी स्पेशिलिटी व कल्याण मेमोरियल, लिंक हॉस्पिटल, बीआईएमआर हॉस्पिटल, परिधि हॉस्पिटल व सिम्स हॉस्पिटल जैसे बड़े-बड़े अस्पतालों के अलावा शहर के अन्य प्राइवेट अस्पतालों में भी कोरोना मरीजों के इलाज के लिये बैड व वार्ड रिजर्व कराए हैं। इन अस्पतालों में ऑक्सीजन सहित चिकित्सकीय स्टाफ की पर्याप्त व्यवस्था है। 

साथ ही निर्धारित प्रोटोकॉल के तहत कोरोना मरीजों का यहाँ पर इलाज किया जा रहा है। इन अस्पतालों में भर्ती हो रहे कोरोना संक्रमित मरीजों को बेहतर से बेहतर इलाज मुहैया कराने के लिए कलेक्टर ने वरिष्ठ अधिकारियों को बतौर नोडल अधिकारी नियुक्त किया है। साथ ही मजबूत रेफरल सिस्टम भी विकसित किया है, जिससे गंभीर मरीज को तत्काल सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल में भर्ती कराया जा सके। जेएएच समूह व जिला चिकित्सालय सहित शहर के सभी बड़े प्राइवेट अस्पतालों व नर्सिंग होम के बाहर जिला प्रशासन ने उन सभी अस्पतालों की सूची के फ्लैक्स व बैनर प्रदर्शित कराए हैं, जहाँ कोरोना मरीजों के इलाज की सुविधा उपलब्ध है। कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने अपील की है कि यदि किसी अस्पताल में कोरोना संक्रमित मरीजों के लिये बैड उपलब्ध न हो तो चिंता न करें शहर में तमाम अस्पतालों के विकल्प उपलब्ध हैं। इन अस्पतालों में भी कोरोना का इलाज निर्धारित प्रोटोकॉल के तहत किया जा रहा है। 

केएमजे हॉस्पिटल, गोविल हॉस्पिटल, काया हॉस्पिटल, सर्राफ हॉस्पिटल, श्री मल्टी स्पेशिलिटी हॉस्पिटल, जीएस हॉस्पिटल एवं रिसर्च सेंटर, लीला हॉस्पिटल, माँ कैलादेवी हॉस्पिटल, कल्पना हॉस्पिटल व सहयोग हॉस्पिटल । इन प्राइवेट अस्पतालों के अलावा आरोग्यधाम, सिद्धांत हॉस्पिटल, जीवन सहारा हॉस्पिटल, प्राइम हॉस्पिटल, नवजीवन हॉस्पिटल, वैष्णवी हॉस्पिटल, सुपर आयुष्मान हॉस्पिटल, सुविधा हॉस्पिटल, कान्हा मल्टी स्पेशिलिटी, सोनम हॉस्पिटल एण्ड रिसर्च सेंटर, लाईफ केयर हॉस्पिटल, नारायण हॉस्पिटल, चन्द्रा नर्सिंग होम, श्रीकृष्णा हॉस्पिटल, कुशाल हॉस्पिटल, लोटस हॉस्पिटल, ब्रम्हाणी, मानसरोवर केयर हॉस्पिटल, महेश्वरी नर्सिंग होम, मैक्स केयर हॉस्पिटल, रिम्स हॉस्पिटल, वेदांश मल्टी स्पेशिलिटी, आलोक नर्सिंग होम, बालाजी हॉस्पिटल, राठी हॉस्पिटल, गालव हॉस्पिटल, श्रीमती रमादेवी स्मृति हॉस्पिटल, शांता नर्सिंग होम, माँ शीतला मल्टी स्पेशिलिटी, एसके मेमोरियल मल्टी स्पेशिलिटी हॉस्पिटल में कोरोना मरीजों के लिए बैड उपलब्ध हैं। 

साथ ही एसआर मेमोरियल हॉस्पिटल, श्रीराम हॉस्पिटल, श्री व्यंकटेश हॉस्पिटल, अभिषेक हॉस्पिटल, अंश मल्टी स्पेशिलिटी हॉस्पिटल व एसकेएस हॉस्पिटल में भी कोरोना मरीजों के इलाज के लिए पर्याप्त संख्या में बैड उपलब्ध हैं। कोरोना मरीजों के लिए सरकारी फैसिलिटीज के रूप में जेएएच के सुपर स्पेशिलिटी हॉस्पिटल व जिला चिकित्सालय ग्वालियर के अलावा ईएसआई हॉस्पिटल, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र हजीरा, मिलिट्री हॉस्पिटल, आयुर्वेदिक हॉस्पिटल, आईटीएम हॉस्पिटल, व्हीआईएसएम हॉस्पिटल, रामसिंह धाकरे मेमोरियल हॉस्पिटल, सर्वधर्म हॉस्पिटल, टाईम हॉस्पिटल, सोफिया हॉस्पिटल, रामनाथ सिंह चिकित्सालय और रामकृष्ण हॉस्पिटल में कोरोना मरीजों के लिये पर्याप्त संख्या में बैड की व्यवस्था की गई है। साथ ही चिकित्सकों सहित पैरामेडीकल स्टाफ नियुक्त किया गया है।