भाजपा सरकार के खिलाफ लडाई का शंखनाद सबसे पहले दतिया से होगा…

BJP देश को मूल मुददों से भटका कर हिन्दू-मुस्लिम में उलझा रही : दिग्विजय सिंह

ग्वालियर। मध्यप्रदेश में कांग्रेस भाजपा सरकार की असलियत उजागर करने, राज्य से आगामी चुनाव में भाजपा को  नेस्तनाबूत करने व कांग्रेस सरकार की पुन: वापसी को लेकर अब प्रदेश भर के जंगी आंदोलन, आम सभाएं जनजागरण अभियान छेडेगी इसके लिये कांग्रेस ने अभी से २०२३ के विधानसभा चुनाव पर फोकस शुरू कर दिया है। उक्त जानकारी आज पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने पत्रकारों से चर्चा के दौरान दी। पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने कहा कि भाजपा सरकार के खिलाफ लडाई का शंखनाद सबसे पहले दतिया से होगा जहां सौ से भी अधिक निर्दोष लोगों को फर्जी मामलों में फंसाया गया है और कांग्रेस जनों पर भी झूठे मुकदमें लादे जा रहे हैं। पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने ग्वालियर-चंबल संभाग के कांग्रेस पदाधिकारियों, विधायकों, पूर्व सांसद व पूर्व विधायकों की बैठक के बीच में नेता प्रतिपक्ष डॉ. गोविंद सिंह, कार्यकारी अध्यक्ष रामनिवास रावत, फूलसिंह बरैया, अशोक सिंह के साथ पत्रकारों से चर्चा की। उन्होने कहा कि राज्य में भाजपा सरकार का अन्याय व अत्याचार अब नहीं सहा जायेगा। 

इसके लिये कांग्रेस अब पूरी ताकत से तैयार है और दतिया से आंदोलन का शंखनाद होगा। उन्होंने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने २०२३ के चुनावों को लेकर रणनीति तैयार करने कार्यकर्ताओं से संपर्क करने और हर जिले में पहुंचने के लिये कार्यक्रम बनाने शुरू कर दिये हैं। उन्होने कहा कि इसी के तहत ग्वालियर -चंबल की कमान उन्हें सौंपी है इसी के तहत आज की बैठक संपन्न हुई है। इसमें विधायकों, पूर्व मंत्रियों, पूर्व विधायकों से लेकर जिले के अध्यक्ष एवं सभी पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं से चर्चा कर मंहगाई, रसोई गैस, पेट्रोल डीजल के बढते दाम, भाजपा सरकार में कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर अन्याय अत्याचार के मुददे को जनता के बीच ले जाने पर चर्चा की गई। 

उन्होंने बताया कि कांग्रेस का घर-घर चलो अभियान से लेकर अन्य जनता के बीच पहुंचने का अभियान चलते रहेंगे। उन्होने कहा कि भाजपा ज्वलंत मुददों से ध्यान भटका कर हिन्दू मुसलमान की बात कर रही है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस हर वर्ग जाति को साथ लेकर चलती है और बाबा साहब द्वारा बनाये गये संविधान के तहत काम करने पर अडिग है। उन्होंने कहा कि भाजपा के राज में शक्ल देखकर मामले दर्ज किये जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि कांग्रेस सुप्रीमो श्रीमती सोनिया गांधी, प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ और सबने मिलकर कांग्रेस के कददावर नेता डॉ. गोविंद सिंह को विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष की जिम्मेदारी सौंपी है। उसे वह बखूबी निभा रहे हैं। इस मौके पर नेता प्रतिपक्ष डॉ. गोविंद सिंह ने कहा कि वह सभी को साथ लेकर संकल्प के साथ अन्याय, अत्याचार दमन के खिलाफ संघर्ष करेंगे। उन्होंने बताया कि भाजपा और उसके सहयोगी संगठन जबलपुर सिवनी में जहां हथियारों लाठी आदि का प्रशिक्षण ले रहे हैं। वहीं जनता से वसूली तक कर रहे हैं। 

भाजपा उसके सहयोगी संगठन के लोग अनुसूचित जन जाति और आदिवासियों को दबाना चाहती है ऐसा सिवनी और जबलपुर में ही नहीं पूरे प्रदेश में हो रहा है। उन्होंने कहा कि देश प्रदेश में मंहगाई चरम पर पहुंच रही है। बेरोजगारी बढ रही है। हम जनता को भाजपा के इन कृत्यों को बतायेंगे। वहीं वह भाजपा को मजबूर करेंगे कि वह संविधान के तहत कार्य करे। उन्होंने कहा कि शिवराज सरकार मे अब बुलडोजर चलने लगा है वह भी गरीबों मुसलमानों के यहां किसी भी आरएसएस वाले के यहां शिवराज का बुलडोजर क्यों नहीं चला। इस अवसर पर कांग्रेस नेता इंजी. फूलसिंह बरैया ने अपने संकल्प को फिर से दोहराते हुये कहा कि उन्होने जो सार्वजनिक रूप से कहा उसे फिर दोहराता हूं कि आगामी विधानसभा चुनाव में भाजपा की पचास से कम सीटें ही आयेंगी। उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं होगा तो वह राजभवन के सामने अपना मुंह काला करेंगे। उन्होंने पत्रकारों को गणित समझाते हुये बताया कि अनुसूचित जाति , जन जाति से लेकर अल्पसंख्यक समाज भाजपा से परेशान है। 

वहीं पिछडा वर्ग पूरी तरह से भ्रमित है। उन्होंने कहा कि उनका मानना है कि इन सभी वर्ग के वोट अब भाजपा को नहीं मिलेंगे। और भाजपा सत्ता से बाहर होगी। इस अवसर पर कांग्रेस नेता बरैया से मुख्यमंत्री का चेहरा दलित वर्ग से होने का पूछे गये प्रश्र के उत्तर में उन्होने कहा कि मुख्यमंत्री तो हमारे सर्वमान्य नेता कमलनाथ ही होंगे। भाजपा द्वारा १.७५ लाख त्रिदेव की फौज होने का मुकाबला कांग्रेस कैसे करेगी के पूछे प्रश्र के उत्तर में दिग्विजय सिंह ने कहा कि २०१८ में कांग्रेस ने सरकार बनाई थी वह कैसे चली गई इसके पीछे हम नहीं जा रहे। वहीं सिंधिया जी इस प्रकार से बिक जायेंगे हम नहीं जानते थे। उन्होंने कहा कि भाजपा को हमने हराया था अब फिर आगे भी हरायेंगे। ज्ञानवापी मस्जिद में सर्वे के बारे में पूछे सवाल पर पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह ने कोई भी जबाब नहीं दिया। 

ग्वालियर चंबल में कांग्रेस के लिये क्या सिंधिया, नरेन्द्र सिंह तोमर में से कौन चुनौती होगा के पूछे प्रश्र के उत्तर में पूर्व सीएम सिंह ने कहा कि उनके लिये व्यक्ति नहीं भाजपा की विचार धारा और उनकी नीतियां और अर्थनीति ही चुनौती है। उन्होंने कहा कि जब उन्होंने सत्ता छोडी थी उस समय २० हजार करोड का कर्जा था आज मध्यप्रदेश पर एक लाख करोड से अधिक का कर्जा हो गया है। खरगौन में सांप्रदायिक दंगों में जिन्हें नुकसान हुआ है उसे कांग्रेस सरकार आने पर मुआवजा दिया जायेगा क्या के बारे में पूछे जाने पर दिग्विजय सिंह ने कहा कि भारत के कानून में उनके लिये योजना और प्रावधान दिये गये हैं वह चाहे भाजपा हो या कांग्रेस सभी को मानना होंगे। घर तोडे जाने को लेकर उन्होंने कहा कि भाजपा कोई न्यायपालिका नहीं है जो सजा दे इसके लिये वाकायदा न्यायपालिका है उसे दोषी पाये जाने पर सजा देना चाहिये। पत्रकार वार्ता में प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष रामनिवास रावत, प्रदेश उपाध्यक्ष अशोक सिंह, विधायक लाखन सिंह, फूलसिंह बरैया, वरिष्ठ कांग्रेस नेता बाबूलाल जी मौजूद थे।