सिरोल गांव के 104 दलित परिवारों के घर तोड़ने के आए नोटिस…

गरीब परिवारों की जमीन, मकान की लड़ाई रोड से लेकर कोर्ट तक लड़ेगी AAP : अमित शर्मा

गुरुवार को सिरोल गांव के 104 दलित परिवारों के घर तोड़ने के आए नोटिस की डेट में जिला कलेक्ट्रेट में सुनवाई हुई जिसमे आम आदमी पार्टी की लीगल विंग के अधिवक्ताओं ने अपना पक्ष न्यायालय में मजबूती रखा जिसमे अगली तारीख 11-5-22 तय हुई। आम आदमी पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता अमित शर्मा ने बताया की शहर के भूमाफियाओं की नजर सिरोल गांव की नई कॉलोनी की करोड़ों रुपए की जमीन पर टिकी है और इस खेल में ग्वालियर प्रशासन और भाजपा के बड़े नेता शामिल है सूर्या मेसर्स बिल्डर और उनके पार्टनर विकाश उपाध्याय जिन ने प्रशासन के अधिकारियों से साठ गांठ भ्रष्टाचार करके सरकारी जिनपर दलित समाज के लोगो का पूर्व में पट्टा था शासन की जमीन सर्वे नंबर 433/1 को राजस्व अभिलेखों में अपने नाम चढ़वा ली हैं और अब प्रशासन से मिलकर सिरोल गांव निवासियों के मकान तुड़वा कर प्लाट काटने तैयारी कर रहा हैं और इन सब में बड़ा भ्रष्टाचार हुआ, आम आदमी पार्टी रोड से लेकर कोर्ट तक इन दलित गरीब समाज के लोगो की लड़ाई को लड़ेगी और बीजेपी के दलित विरोधी चेहरे हो जनता के सामने रखेगी आज जिला कलेक्टर में प्रकरण क्रमांक 0003/अ-70/2022-23 में सुनवाई हुई जिसमें अगली तारीख 11-5-22 तय हुई, आम आदमी पार्टी इस लड़ाई में सिरोल गांव के लोगो के साथ खड़ी रहेगी। आज की पैरवी मैं अधिवक्ता अमित शर्मा, अधिवक्ता नीरज बंसल, अधिवक्ता बीवी जोशी, अधिवक्ता वीरेंद्र सिसोदिया, अधिवक्ता सूरज राठौर, अधिवक्ता हीरेंद सिंह, अधिवक्ता आयुष कुशवाह आदि शामिल हुए।