रीवा में दो पक्षों में खूनी संघर्ष, कई घायल…

मस्जिद की जमीन बताकर BJP नेता को पटककर पीटा

रीवा के मनगवां में सरकारी जमीन पर दावे को लेकर दो समुदाय के लोग आमने-सामने आ गए। इस जमीन पर मंदिर और मस्जिद दोनों हैं। इलाके के BJP के पूर्व पार्षद लवकुश गुप्ता बुधवार सुबह जमीन पर निर्माण कराना चाह रहे थे। मुस्लिम समाज के लोगों ने यह कहते हुए आपत्ति जताई कि जमीन मस्जिद की है। दोनों तरफ से बहस होने लगी। झगड़ा बढ़ने पर लवकुश और उनके परिवार को लाठियों से पीटा गया।

मारपीट का वीडियो सोशल मीडिया पर किसी ने अपलोड कर दिया। इसके बाद हिंदू पक्ष के लोग भी मौके पर पहुंच गए और फिर मारपीट होने लगी। दोनों पक्षों की ओर से क्रॉस केस दर्ज कर लिया गया है। घायलों को रीवा के संजय गांधी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। विवाद के बाद पुलिस मौके पर पहुंची। एहतियात के तौर पर क्षेत्र में पुलिस तैनात की गई है। मामले की मॉनिटरिंग के लिए मऊगंज एएसपी विवेक कुमार लाल मनगवां में कैंप कर रहे हैं। थाना प्रभारी निरीक्षक डीके दाहिया ने बताया कि मलकपुर तालाब से लगी सरकारी जमीन है। इस जमीन से लगी लवकुश गुप्ता की भी निजी जमीन है।

राजस्व विभाग के मुताबिक खसरा नंबर 60/2/3 का कुल रकबा 0.16 और खसरा नंबर 60/4/2 का कुल रकबा 0.34 के भूमि-स्वामी लवकुश गुप्ता और राजकुमार गुप्ता हैं। इस जमीन का पहले भी 3 बार सीमांकन हो चुका है। इसके बाद भी आए दिन विवाद की स्थिति बनती है। 30 अप्रैल 2022 को एसडीएम के निर्देशन पर दो राजस्व निरीक्षक व पांच पटवारी की टीम ने भूमि का सीमांकन किया था। इसकी वीडियोग्राफी भी कराई गई। तालाब की सरकारी जमीन पर दशकों पुराने मंदिर और मस्जिद बने हैं। विवादित जमीन सरकारी दस्तावेजों में गुप्ता परिवार के नाम पर दर्ज है।

एसपी नवनीत भसीन ने बताया कि शिकायत पर थाने में 11 लोगों के खिलाफ नामजद एफआईआर दर्ज की गई है। मुख्य आरोपियों में नियामुल हक, अहमद अली खान, हाफिज अली, नियाज खान, लाले, कलंदर खान, अनवर खान, खुर्शीद खान, सोनू खान, हामिद अंसारी व रौनक अंसारी शामिल हैं। बुधवार देर शाम कलेक्टर मनोज पुष्प, एसपी नवनीत भसीन, तहसीलदार अनुराग त्रिपाठी, एएसपी मऊगंज विवेक कुमार लाल, एसडीओपी केएस द्विवेदी, थाना प्रभारी दिलीप कुमार दाहिया, लौर थाना प्रभारी केपी त्रिपाठी समेत अन्य आला अधिकारी मौके पर पहुंचे।