सूझबूझ से काम लेते हुए…

बेटी को बचाने लुटेरों से भिड़ी मां, चैन स्नेचिंग करने बच्ची पर ताना था कट्टा

ग्वालियर में एक मां अपनी दो साल की बेटी को बचाने के लिए अपनी जान की परवाह किए बिना लुटेरों से भिड़ गई। मां के साहस को देखते हुए लुटेरों वहां से भाग खड़े हुए। घटना की जानकारी मिलते ही कुछ देर बाद पुलिस भी मौके पर पहुंची, लेकिन तब तक लुटेरे वहां से भाग चुके थे। घटना ग्वालियर जिले की बताई जा रही है। जानकारी के अनुसार महाराजपुरा थाना इलाके के बीपी सिटी निवासी सचिन तोमर ग्वालियर के एडिशनल एसपी मृगाखी डेका के ऑफिस में तैनात हैं। उनकी पत्नी काजल तोमर अपनी दो साल की बेटी श्रव्या और पड़ोस में रहने वाली रिंकी और रिया के साथ रोजाना की तरह शनिवार को पार्क  घूमने जा रही थीं। 

घर से निकलकर वे जड़ेरूआ बांध के पास पहुंची कि इसी दौरान एक बाइक पर दो युवक आकर रूके, एक युवक बाइक से नीचे उतरा, वहीं दूसरा साथी बाइक मोड़कर खड़ा हो गया। दोनों ने हेलमेट लगाया था, उन्हें देखकर काजल ने तुरंत उनके बदमाश होने का अंदाजा लगा लिया। कुछ ही देर में एक लुटेरा काजल के पास पहुंचा और कट्टा निकालकर चैन उतारने को कहा। उसने उनकी दो साल की बेटी पर कट्टा अड़ा दिया। काजल ने सूझबूझ से काम लेते हुए तुरंत गले की चैन उतारी और कुछ दूरी पर फेंक दी। 

जैसे ही लुटेरा चैन उठाने के लिए मुड़ा काजल ने उसे पास पड़े पत्थर से हाथ पर मारा, जिससे कट्टा जमीन पर गिर गया। कट्टा गिरते ही लुटेरा भाग निकला। कुछ दूर आगे जाने के बाद लुटेरा फिर वापस आया और कट्टा लहराकर आतंक फैलाने की कोशिश करने लगा। इस दौरान रिंकी और रिया ने दोनों लुटेरों पर पथराव कर उन्हें खदेड़ दिया। लुटेरे डरकर वहां से भाग निकले। काजल ने बताया कि जब उनकी दो साल की बेटी पर लुटेरों ने कट्टा ताना तो वह बर्दाश्त न कर सकीं और जान की परवाह किए बिना लुटेरों से भिड़ गई। फिलहाल पुलिस दोनों लुटेरों की तलाश करने के लिए इलाके के सीसीटीवी फुटेज खंगाल रही है।