ग्वालियर-चंबल एवं सागर संभाग के अधिकारियों को दिया प्रशिक्षण…

जल जीवन मिशन के तहत तेजी से परियोजनाओं का कार्य हो : संभागायुक्त 

ग्वालियर। केन्द्र सरकार द्वारा ग्रामीण क्षेत्र में हर घर को टोंटी से पेयजल उपलब्ध कराने हेतु जल जीवन मिशन प्रारंभ किया गया है। मिशन के तहत सभी ग्रामीण क्षेत्रों में ग्रामवासियों को पेयजल की उपलब्धता टोंटी के माध्यम से हो, यह सुनिश्चित किया जायेगा। इसके साथ ही ग्रामीण क्षेत्र के सभी आंगनबाड़ी केन्द्र, शाला भवनों में भी मिशन के तहत पेयजल उपलब्ध कराए जाने को प्राथमिकता में रखा गया है। शासन की मंशा अनुरूप ग्वालियर एवं चंबल संभाग में जल जीवन मिशन के तहत तेजी से कार्य किया जाए। संभागीय आयुक्त आशीष सक्सेना ने यह बात मंगलवार को होटल तानसेन में ग्वालियर-चंबल एवं सागर संभाग के अधिकारियों के प्रशिक्षण में कही। 

जल जीवन मिशन के प्रभावी क्रियान्वयन के लिये आयोजित इस प्रशिक्षण कार्यक्रम में लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के प्रमुख अभियंता के.के. सोनगरिया, मुख्य अभियंता पी.के. मेदसवार, अधीक्षण यंत्री सागर डॉ. आर एस ठाकुर, अधीक्षण यंत्री पन्ना महेन्द्र सिंह सहित ग्वालियर-चंबल संभाग के वरिष्ठ अधिकारी और जन अभियान परिषद सहित मिशन से जुड़ीं अन्य एजेन्सियों के पदाधिकारी उपस्थित थे। संभागीय आयुक्त आशीष सक्सेना ने कहा कि मिशन के प्रभावी क्रियान्वयन के लिये विभाग को एक सॉफ्टवेयर तैयार करना चाहिए, जिसमें कितनी परियोजनाओं में कार्य पूर्ण हुआ, कितने में प्रगति पर है की जानकारी हो। 

इसके साथ ही शाला भवन और आंगनबाड़ी भवनों की भी जानकारी इसमें शामिल की जाए। उन्होंने विभागीय अधिकारियों से कहा कि जिन ग्राम पंचायतों की परियोजनायें पूर्ण हो गई हैं उनको हैण्डओवर करने की कार्रवाई भी तेजी के साथ की जाए। संभागीय आयुक्त श्री सक्सेना ने प्रशिक्षण में कहा कि जन अभियान परिषद के माध्यम से भी ग्रामीण जनों को जल जीवन मिशन की जानकारी और उससे मिलने वाले लाभों को बताने का दायित्व ग्वालियर-चंबल संभाग में किया जा रहा है। 

परियोजनाओं के संचालन का कार्य भी स्व-सहायता समूह की महिलाओं को सौंपा जाए तो और बेहतर तरीके से कार्य हो सकेगा। प्रशिक्षण के दौरान यह भी बताया गया कि चिन्हित सभी शाला भवनों और आंगनबाड़ी केन्द्रों में जल्द से जल्द पेयजल की व्यवस्था हो इस पर विशेष ध्यान दिया जाए। इसके साथ ही जिन ग्राम पंचायतों में परियोजनायें क्रियाशील हो गई हैं वहाँ पर जल कर की राशि भी नियमित रूप से ग्रामीणों से प्राप्त हो और उसका पृथक से हिसाब भी रखा जाए। 

प्रशिक्षण के दौरान प्रमुख अभियंता के.के. सोनगरिया ने ग्वालियर-चंबल संभाग के साथ ही सागर संभाग में जल जीवन मिशन के तहत किए जा रहे कार्यों की जिलेवार विस्तार से समीक्षा की और संबंधित अधिकारियों को लक्ष्य अनुरूप कार्य तेजी से करने के निर्देश भी दिए। प्रशिक्षण के दौरान विभागीय अधिकारियों ने अपने-अपने जिले में जल जीवन मिशन के तहत किए जा रहे कार्यों के संबंध में जानकारी दी।