क्राइम ब्रांच की टीम द्वारा…

मैट्रिमोनियल साइट के जरिये ठगी करने वाले नाईजीरियन का  एक और साथी नागालैण्ड से गिरफ्तार

ग्वालियर। विगत एक माह पूर्व ग्वालियर क्राईम ब्रांच द्वारा मैट्रिमोनियल साइट के जरिये ठगी करने वाले दो नाईजीरियन को दिल्ली से गिरफ्तार किया गया था। दोनों नाईजीरियन ऑनलाइन मैट्रिमोनियल साइट के जरिये लोगों को अपने झाँसे में लेकर ठगी करते थे व बैंक खातों में पैसे ट्रांसफर कराते थे। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ग्वालियर श्री अमित सांघी,भापुसे के निर्देष पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शहर (पूर्व/अपराध) श्री राजेष डण्डौतिया के मार्गदर्षन में गठित की गई क्राईम ब्रांच की सायबर टीम द्वारा गिरफ्तार दोनों नाईजीरियन बदमाषों से निरंतर की गई पूछताछ में यह तथ्य प्रकाष में आया था कि उक्त दोनों आरोपियों को फ्रॉड करने हेतु बैंक खाते दीमापुर नागालैण्ड से उपलब्ध कराये जा रहे हैं। 

वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देष पर थाना प्रभारी क्राईम ब्रांच निरीक्षक दामोदर गुप्ता के मार्गदर्षन में क्राईम ब्रांच की एक टीम को बैंक खाते उपलब्ध कराने वाले आरोपी की गिरफ्तारी हेतु नागालैण्ड भेजा गया। क्राईम ब्रांच टीम द्वारा 15 दिवस नागालैण्ड में रहकर उक्त आरोपी की रैकी की बाद उक्त आरोपी को गिरफ्तार किया। आरोपी से पूछताछ करने पर स्पष्ट हुआ कि आरोपी बैंक खाते खुलवाकर दिल्ली में अपने नाईजीरियन साथियों को भेजता था। आरोपी द्वारा अपने नाम पर भी दो खाते खुलवाये गये थे जिनमें आरोपी द्वारा अपना पता गलत दिया गया था। 

आरोपी के दोनों खातों में दो महीने में करीब 90 लाख रुपये का ट्रांजेक्शन अभी सामने आया है, उक्त पैसा बैंक खातों में कहाँ कहाँ से ट्रांसफर हुआ है इसकी जाँच की जा रही है। नागालैण्ड में क्राईम टीम के पहुंचने पर ज्ञात हुआ कि कुछ स्थानीय लोग जिनका कोई स्थाई पता ठिकाना नहीं होता है, ऐसे लोग बैंक में खाता खुलवाकर दिल्ली के लोगों को 03 हजार रूपये में अपने बैक खाते बैच देते हैं, पकड़े गये नाईजीरियन द्वारा इन बैचे गये खातों का दुरूपयोग किया गया था। जिस व्यक्ति ने तीन हजार रूपये में अपना खाता बैचा था वह व्यक्ति नागालैण्ड में ट्रेस हुआ था। 

क्राईम ब्रांच की टीम द्वारा तमाम भाषाई समस्याओं के बावजूद भी विषम परिस्थितियों में काम करके नागालैण्ड जैसे दुरूह इलाके में जहां रहने व खाने की अनेक समस्याऐं थी वहं से आरोपी को ढूढ़ निकाला। पुलिस टीम द्वारा की गई पूछताछ में उसने बताया कि नागालैण्ड में बैंक खाता खुलवाकर बैच देना प्रचलन में है। यह के लोग बैंक खाता खुलवाकर तीन हजार रूपये में बैच देते हैं। मेरे द्वारा भी दिल्ली में इन लोगो को अपना खाता बैचा था। क्राईम टीम द्वारा आरोपी को पकड़ने के लिये लगातार 15 दिन नागालेण्ड व मिजोरम के दुरूह व कठिन स्थानों पर पहुंच कर आरोपी को धरदबोचा। उक्त आरोपी को नागालैण्ड के दुरूह व कठिन स्थानों पर पहुंच पकड़कर लाने में क्राईम ब्रांच ग्वालियर की टीम की बहुत ही सराहनीय व प्रषंसनीय भूमिका रही है।