गरुद्वारा श्री दाता बन्दी छोड़ पर मना गुरु तेग बहादुर का 400वा प्रकाश पर्व…

गुरुओं से सीखे त्याग और बलिदान : स्वामी ऋषभ देवानन्द महाराज

ग्वालियर। सिख धर्म के 9 वे गुरु तेग बहादुर जी का 400 वा प्रकाश पर्व मनाया जा रहा है, इसी कार्यक्रम के उपलक्ष्य में दाता बन्दी छोड़ गरुद्वारा किले पर स्वामी ऋषभ देवानन्दजी महाराज, व बाबा सुखवीर सिंह जी ने गुरुद्वारे में मत्था टेका, व सन्त मिलन कार्यक्रम के तहत चर्चा हुई। बाबा सुखवीर सिंह ने कहा कि गुरु तेग बहादुर ने संस्कृति और धर्म की रक्षा के लिए  अपने प्राण उत्सर्ग कर दिए, उनके दिए विचार और शिक्षा अमूल्य धरोहर है। 

स्वामी ऋषभ देवानन्दजी महाराज ने कहा कि सनातन धर्म रक्षा के लिए विधर्मियों का सदैव विरोध किया, जन-जागरण हेतु धर्म-राष्ट्र के लिए लोगो को गुरुओं के आदेश पे चलने के लिए प्रेरित किया और इस संघर्ष गाथा में अपने प्राण न्योछावर किये। गुरुओं के सिद्धांत को आगे ले जाने हेतु युवाओं के बीच सनातन धर्म, राष्ट्र रक्षा के लिए त्याग, बलिदान की गाथा व नाटय प्रस्तुत किया जाना चाहिए, जिससे समाज मे  जागरूकता व राष्ट्र रक्षा की भूमिका तय हो सके।इस अवसर पर कार्यक्रम संयोजक अंशुमान सेंगर उपस्थित थे।