15 CISF जवानों को ले जा रही बस पर आतंकी हमला…

पीएम मोदी के दौरे से दो दिन पहले जम्मू कश्मीर में टेररिस्ट अटैक !

जम्मू के चड्ढा कैंप के पास सुबह करीब सवा चार बजे CISF के 15 जवानों को ड्यूटी पर ले जा रही बस पर आतंकियों ने हमला किया। CISF अधिकारी ने बताया कि उन्होंने आतंकी हमले में जवाबी कार्रवाई की। एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि कार्रवाई के दौरान CISF के एक ASI की मौत हो गई और दो अन्य घायल हो गए हैं। मिली जानकारी के अनुसार ये जवान सुजवां में हुए हमले में मदद के लिए जा रहे थे। दरअसल सुरक्षाबलो को लगातार यह सूचना मिल रही थी की पीएम के दौरे से पहले आतंकी जम्मू शहर में किसी बड़ी वारदात को अंजाम देना चाहते है। इस सूचना के बाद गुरूवार शाम से ही जम्मू पुलिस ने सेना और अर्धसेनिक बलों के साथ मिलकर शहर के कई इलाको में सर्च ऑपरेशन चलाए। 

यह सर्च ऑपरेशन शुक्रवार तड़के तक जारी रहा और इसी ऑपरेशन के दौरान जम्मू के Bhatindi इलाके में CISF के जवानों को ले जा रही एक बस पर आंतकियो ने फायरिंग शुरू कर दी। जवाबी कार्यवाही में आतंकी इस हमले को अंजाम देने के बाद एक घर में छिप गए। जिसके बाद इस पूरे इलाके को घेरा गया और ऑपरेशन चलाया जा रहा है। इस ऑपरेशन में अबतक एक ASI शहीद हुए हैं और 6 जवान ज़ख्मी हैं। इस हमले पर जम्मू कश्मीर के डीजीपी दिलबाग सिंह ने कहा कि, 'हमें रात को जानकारी मिली थी कि एक मोहल्ले के अंदर आतंकी छिपे हुए हैं। जानकारी मिलते ही हमलोगों ने एक ऑपरेशन किया जिसमें हमारे 5 जवान जख्मी हुए। इसी दौरान हमारे ASI एसपी पटेल शहीद हो गए। ये ऑपरेशन रातभर चलता रहा और थोड़ी देर पहले दोनों आतंकियों को मार गिराया गया है। ये दोनों ही आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद से जुड़े हुए थे और इनका मकसद किसी सिक्योरिटी फोर्स के कैंप पर अटैक करने का था। हालांकि उससे पहले ही हमारे जवानों ने इसे मार गिराया।' 

आज ही जम्मू कश्मीर के सुजवां में एक ऑपरेशन के तहत सुरक्षाबलों की तरफ से 4 आतंकवादी ढेर कर दिए गए हैं जबकि एक जवान शहीद और 4 जवान घायल हो गए। आतंकियों ने ये हमला जम्मू के सुंजवा इलाके में किया है। जम्मू पुलिस के एडीजीपी के मुताबिक आतंकियों के छिपे होने की सूचना मिलने के बाद इलाके की घेराबंदी की गई थी। जम्मू पुलिस के अनुसार जम्मू के बठिंडी इलाके में रात को आतंकवादियों के होने की खबर मिली थी। इसके बाद इलाके की घेराबंदी की गई, जैसे ही आतंकियों ने सुरक्षाबलों की हलचल देखी तो उन्होंने फायरिंग शुरू कर दी। इसके बाद दोनों तरफ से फायरिंग हुई। इस फायरिंग में एक जवान शहीद हो गया और 4 जवान घायल हो गए।