मध्य प्रदेश में जनता की राय लेकर बनाएंगे योजनाएं…

प्रदेश सरकार के पोर्टल mp.mygov.in पर आम नागरिकों से मांगे सुझाव

भोपाल। राज्य सरकार ने अपनी विभिन्न् जनकल्याणकारी योजनाओं और कार्यक्रमों को प्रभावी बनाने के लिए नवाचार किया है। अब इन योजनाओं में जनभागीदारी भी जाएगी। इसके तहत योजनाओं के क्रियान्वयन के लिए गठित विभिन्न् मंत्री समूहों को सुझाव देने के लिए mp.mygov.in पोर्टल पर आमजन से सुझाव मांगे गए हैं। लोग विभिन्न् योजनाओं को लेकर अपने सुझाव 25 मार्च तक दे सकते हैं। 

आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर सरकार आदिवासी समाज को अपनी तरफ करने का मौका नहीं छोड़ रही है। लिहाजा अनसुचित जनजाति के विषय संबंधी योजनाओं को और अधिक प्रभावी बनाने के लिए गठित मंत्री समूह में चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग, खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री बिसाहूलाल सिंह और जनजातीय कल्याण एवं अनुसूचित जाति कल्याण मंत्री मीना मांडवे को शामिल हैं।

योजना-कार्यक्रम वार गठित मंत्री समूह -

  • मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना : इसे प्रभावी तरीके से पुन: शुरू करने के लिए गठित मंत्री समूह में पर्यटन मंत्री उषा ठाकुर, उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव, राजस्व मंत्री गोविंद सिंह राजपूत और उद्यानिकी राज्यमंत्री भारत सिंह कुशवाह को शामिल किया गया है।
  • कन्या-विवाह योजना : इसकी विस्तृत प्रक्रिया और रूपरेखा तैयार करने के लिए गठित मंत्री समूह में जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट, कृषि मंत्री कमल पटेल और पशुपालन मंत्री प्रेमसिंह पटेल शामिल हैं।
  • लाड़ली लक्ष्मी योजना : गठित मंत्री समूह में चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग, जनजातीय कल्याण मंत्री मीना सिंह मांडवे, कृषि मंत्री कमल पटेल और पर्यटन मंत्री उषा ठाकुर शामिल हैं।
  • राशन वितरण : इस व्यवस्था को प्रभावी बनाने के लिए गठित मंत्री समूह में खाद्य मंत्री बिसाहूलाल सिंह, ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर, सहकारिता मंत्री अरविंद सिंह भदौरिया और उद्यानिकी राज्यमंत्री भारत सिंह कुशवाह हैं।

  • सीएम राइज योजना : इसके प्रचारप्रसार और क्रियान्वयन के लिए गठित मंत्री समूह में औद्योगिक नीति एवं निवेश प्रोत्साहन मंत्री राजवर्धन सिंह, स्कूल शिक्षा राज्यमंत्री इंदर सिंह परमार, आयुष और जल संसाधन राज्यमंत्री रामकिशोर कांवरे और उद्यानिकी राज्यमंत्री भारत सिंह कुशवाह हैं।
  • स्वास्थ्य विभाग : इसकी योजनाओं को प्रभावी रूप से अमल में लाने के लिए गठित मंत्री समूह में जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट, चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग, स्वास्थ्य मंत्री डा. प्रभुराम चौधरी, पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री रामखेलावन पटेल और लोक निर्माण राज्यमंत्री सुरेश धाकड़ शामिल हैं।
  • जल जीवन मिशन : इसका प्रचार करने के लिए गठित मंत्री समूह में लोक निर्माण मंत्री गोपाल भार्गव, वित्त मंत्री जगदीश देवड़ा, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी राज्यमंत्री बृजेन्द्र सिंह यादव और नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा मंत्री हरदीप सिंह डंग को शामिल किया गया हैं।
  • प्रधानमंत्री आवास योजना : मकानों की रेत आदि व्यवस्था के लिए गठित मंत्री समूह में लोक निर्माण मंत्री गोपाल भार्गव, वन मंत्री विजय शाह, नगरीय विकास एवं आवास मंत्री भूपेन्द्र सिंह, जनजातीय कल्याण मंत्री मीना सिंह मांडवे, खनिज साधन मंत्री बृजेन्द्र प्रताप सिंह और पंचायत मंत्री महेन्द्र सिंह सिसोदिया को शामिल किया गया है।
  • सड़कों पर घूमने वाले पशु : इनकी बेहतर व्यवस्था के लिए गठित मंत्री समूह में गृह एवं जेल मंत्री डा. नरोत्तम मिश्रा, चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग, ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर, पशुपालन मंत्री प्रेमसिंह पटेल, पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री उषा ठाकुर और उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव शामिल हैं।
  • गोवर्धन योजना : इसके लिए गठित मंत्री समूह में गृह एवं जेल मंत्री डा. नरोत्तम मिश्रा, पशुपालन मंत्री प्रेमसिंह पटेल, सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्री ओमप्रकाश सकलेचा और उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण राज्यमंत्री भारत सिंह कुशवाह को शामिल किया गया है।