हुण्डी ठग एवं उसके परिजन सहित उसके संरक्षणदाताओं के विरुद्ध…

MPCCI के नेतृत्व में व्यापारियों ने दिया धरना

 

ग्वालियर। हुण्डी ठग/चोर आशु गुप्ता एवं उसके परिजन सहित उसके संरक्षणदाताओं के विरुद्ध एमपीसीसीआई के नेतृत्व में धरना/आंदोलन की श्रृंखला में नया बाजार, लश्कर में धरना दिया गया। धरना में काफी संख्या में व्यापारियों ने शामिल होकर, अपनी शक्ति का प्रदर्शन किया। धरना स्थल पर व्यवसाईयों द्वारा सरकार के प्रति सीआईडी जाँच के आदेश, जिसके लिए किसी ने आवेदन ही नहीं दिया के प्रति गंभीर नाराजगी थी। एमपीसीसीआई के उपाध्यक्ष पारस जैन ने धरने को संबोधित करते हुए कहा कि ईश्वर स्व. हर्षिल साहनी के परिजनों को शक्ति प्रदान करें। आपने कहाकि एक होनहार युवा व्यवसाई, आज धोखाधड़ी का शिकार होकर हमारे बीच से चला गया है। हम शासन से पूँछना चाहते हैं कि इस ठगी काण्ड की जाँच सीआईडी के सुपुर्दी के आदेश क्यों दिए गए हैं। शासन और प्रशासन लगत फहमी में है, वह हमारी ताकत समझ नहीं रहा है क्योंकि जब व्यापारीवर्ग एकजुट होकर आंदोलन करेगा, तब उसकी गूँज काफी दूर तक जाएगी। आपने कहाकि ऐसे व्यवसाई, जिन्होंने अभी तक ठगी की एफआईआर दर्ज नहीं कराई है, वह भी पुलिस में एफआईआर दर्ज कराएँ।

वह किसी जिससे किसी प्रकार का भ्रम उत्पन्न हो। राज्य शासन ने आरोपियों को निकालने के लिए एक रास्ता बना दिया है, सीआईडी को जाँच सौंपकर। हम इसका तीव्र विरोध करते हैं। मानसेवी सचिव डॉ. प्रवीण अग्रवाल ने धरना को संबोधित करते हुए, धरने में पधारे हुए सभी व्यवसाईयों के प्रति धन्यवाद व्यक्त करते हुए कहाकि आप सभी आज इतनी अधिक संख्या में यहाँ पधारे, इस हेतु मैं, आप सभी को नमन करता हूँ। आपने कहाकि यह आंदोलन हर एक ऐसे षडयंत्रकारियों के विरुद्ध है, जिन्होंने व्यवसाईयों की गाड़ी कमाई को लूटा है और अब यह ग्वालियर में नहीं चलेगा। यह ठग हमारी गाड़ी कमाई पर डकैती डालकर, स्वीटजरलैण्ड थाईलैण्ड की यात्रा करते हैं और यहाँ ठगी के शिकार, कई निराश्रित लोग दर-दर भटकने को मजबूर होते हैं। आपने कहाकि हम समझ नहीं पा रहे हैं कि जो डीजीपी, जिस दिन रिटायर्ड हो रहा है और अंतिम क्षणों में इसकी जाँच सीआईडी को सौंपे जाने का आदेश जारी कर रहा है। निश्चित रूप से शासन पर प्रश् चिन्ह लगना स्वभाविक है।

इसलिए अब यह आंदोलन पुलिस के विरुद्ध होकर, अब . प्र. शासन के विरुद्ध है क्योंकि प्रत्येक फैसले में मानवीय मूल्यों को सर्वोच्च रखा जाना चाहिए। इस पर चर्चा करने के लिए हमने प्रदेश के मुख्यमंत्री जी को पत्र लिखकर, समय माँगा है। साथ ही, आपने कहाकि शासन को एमसीएक्स के कारोबार को आवश्यक रूप से बंद करना चाहिए, तभी युवा उद्यमी आत्महत्या जैसे घातक कदम उठाने से बच सकेंगे। आपने, सराफा व्यवसायिक संघ, लश्कर के अध्यक्ष पुरुषोत्तम जैन की सहमति से रविवार, 6 मार्च को सायंकाल 4.00 बजे से 5.00 बजे तक सराफा बाजार, लश्कर में धरना आयोजित करने की घोषणा की। धरना का संचालन, कर रहे कोषाध्यक्ष वसंत अग्रवाल ने धरना को संबोधित करते हुए कहाकि व्यवसाईयों के साथ हुई इस ठगी के विरुद्ध हमारी संस्था, एमपीसीसीआई ने कड़ा कदम उठाया है और ठगी करने वाले व्यवसाईयों की सदस्यता को निलंबित किया है। हमारी संस्था की यह कड़ी कार्यवाही ऐतिहासिक है। आज तक किसी भी संस्था द्वारा इतना कड़ा कदम नहीं उठाया गया है।

हम जो आंदोलन कर रहे हैं, इससे अब पीछे हटने वाले नहीं है, अपितु जो भी गलत काम कर रहा है और ठगों का प्रत्यक्ष अथवा परोक्ष रूप से साथ दे रहा है, उनके विरुद्ध अवश् ही सख्त कार्यवाही होगी क्योंकि यह समस्या केवल पीड़ित व्यवसाईयों तक ही सीमित नहीं है, अपितु यह हम सभी व्यवसाईयों की समस्या है और हम सभी एकजुट होकर, इससे लड़ेंगे और अंत में जीत हमारी ही होगी। धरने को दि ग्वालियर होलसेल क्लॉथ मर्केन्टाइल एसोसिएशन (रजि.) के उपाध्यक्ष विकास गंगवाल, सचिव विजय जाजू, सोना-चाँदी व्यवसाय संघ, लश्कर के अध्यक्ष पुरुषोत्तम जैन, चेम्बर के पूर्व उपाध्यक्ष ओमप्रकाश अग्रवाल, पूर्व मानसेवी संयुक्त सचिवद्वय डॉ. प्रकाश अग्रवाल, नरेश सिंघल एवं जगदीश मित्तल सहित एमपीसीसीआई के कार्यकारिणी सदस्य संजीव अग्रवाल (कुक्कू), सदस्य राजकुमार गर्ग, दिलीप पंजवानी, दीपक पमनानी, अशोक जैन आदि ने संबोधित किया। धरना में कार्यकारिणी सदस्य मनोज सरावगी, अंकुर अग्रवाल, किशोर कुमार कुकरेजा, प्रशान्त दुसेजा, लक्ष्मन बंसल, ओमप्रकाश अग्रवाल, अमित बत्रा, प्रदीप सिंघल सहित एक सैकड़ा से अधिक व्यवसाई शामिल थे।