अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस अवसर पर...

महिला बंदियों के सम्मान में कवियित्री ने बांधा समां

 

फेथ ऑफ पब्लिक स्टूडेंट वेलफेयर एवं शिक्षा समिति के द्वारा मंगलवार को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर केंद्रीय जेल में बंद महिला बंदियों के सम्मान में "कवयित्री सम्मेलन" का आयोजन किया गया। तो वहीं बेटियों के प्रति मान सम्मान जागरूकता का संदेश देने के लिए "बेटी नहीं है बोझ" एक लघु नाटिका का मंचन का मंचन शासकीय पॉलिटेक्निक कन्या महाविद्यालय की छात्राओं द्वारा किया गया।

 

भव्य आयोजन शहर की जानी-मानी कवित्री कादंबरी आर्य, डॉ.दीप्ती गौड़(दीप), डॉ.ज्योति उपाध्याय, अर्चना वामनगया, व्याप्ति उमड़ेकर, दिव्या यादव और अपनी कविताओं से जहां लोगों को गुदगुदाया तो वहीं समाज में बेटियों-महिलाओं के प्रति फैली सामाजिक कुरीतियों से किस प्रकार जूझना हैं उन कुरीतियों को कैसे मिटाना है यह संदेश भी कवित्रियों ने अपनी कविताओं माध्यम से महिलाओं को दिया। कवि सम्मेलन का संचालन वरिष्ठ कवि अमित चितवन द्वारा किया गया

 

कविता पाठ के बीच शासकीय कन्या पॉलिटेक्निक महाविद्यालय की छात्राओं ने लघु नाटिका "बेटी नहीं है बोझ" के माध्यम से समाज को यह समझाने का प्रयास किया कि जब हम समाज में नारी को नारायणी के रूप में उसकी पूजा करते हैं तो फिर बेटी के पैदा होने पर कई परिवारों में मायूसी क्यों छा जाती है ? क्यों उसे बोझ समझा जाने लगता है ? ऐसे लोगों को एक संदेश देने के लिए "बेटी नहीं है बोझ" लघु नाटिका का मंचन केंद्रीय जेल में किया गया। 

 

आयोजन में महिला जेल महिला बंदियों के छोटे-छोटे बच्चों ने मनमोहक राधा कृष्ण का निर्णय किया जिससे प्रसन्न होकर आयोजन में मौजूद लोकनाद न्यूज़ के एडिटर सुरेंद्र श्रीवास्तव ने महिला वार्ड के नन्हे-मुन्ने बच्चों के लिए 5100 ₹. प्रोत्साहन राशि दी। वरिष्ठ जेल अधिकारी प्रभात कुमार, संस्था के सचिव रवि यादव आदि ने भी बच्चों दोनों बच्चों पुरस्कृत किया। क्योंकि यह आयोजन महिलाओं के लिए, उन्हीं के सम्मान में था इसलिए महिलाएं भी बेहद उत्साह में थी, और वे स्वयं को इस आयोजन में शामिल होने से रोक नहीं पायीं उन्होंने भी अपनी नृत्य कला का प्रदर्शन इस आयोजन में किया।

 

आयोजन अतिथि के रूप में उपस्थित जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव अपर जिला न्यायधीश गालिब रसूल, न्यायिक मजिस्ट्रेट श्री जयसवाल, प्रगति नायक डीपीओ अजाक ग्वालियर रेंज, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अभिनव चौकसे द्वारा जिला प्रशासन और सेंट्रल जेल ग्वालियर द्वारा महिलाओ के हित मे किये जा रहे कार्य महिला बंदियो के कानूनी अधिकारों की जानकारी दी।

 

मीडिएटर डॉ. प्रदीप कश्यप एवं  पेनल लॉयर शिल्पा डोंगरा पी एल व्ही डॉ एन डी वर्मा द्वारा महिलाओं  को उनके कानूनी अधिकार मीडिएसन, निशुल्क कानूनी मदद के बारे मे विस्तार से जानकारी दी। आयोजन में संस्था की ओर से रवि यादव, सुनील राजपूत, ब्रजेश चतुर्वेदी, सुरेंद्र श्रीवास्तव, पीडी सोनी, शाहनवाज खान, बासु श्रीवास्तव, पंकज शर्मा, गणेश समाधिया आदि मौजूद रहे।