किसी को मिली आर्थिक मदद तो किसी के नि:शुल्क इलाज का हुआ इंतजाम…

कलेक्टर ने सुनीं असहायों एवं जरूरतमंदों की समस्याऐं

ग्वालियर। फिर से जन-सुनवाई शुरू होने से असहाय एवं जरूरतमंदों को बड़ा सहारा मिला है। ऐसे लोगों को जन-सुनवाई के रूप में एक ऐसा मंच मिल गया है, जिसके माध्यम से वे अपनी समस्यायें व कठिनाईयों का सामधान प्राप्त कर सकते हैं। इसका जीवंत उदाहरण कलेक्ट्रेट की जन-सुनवाई में देखने को मिला। आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों की दो महिलाओं सहित तीन लोगों को आर्थिक मदद मिली तो अन्य लोगों की विभिन्न प्रकार की समस्याओं के समाधान की रूपरेखा भी बन गई।  साथ ही जरूरतमंद लोगों के नि:शुल्क इलाज का इंतजाम भी जन-सुनवाई में हो गया। 

मंगलवार को कलेक्ट्रेट में हुई जन-सुनवाई में 130 फरियादी पहुँचे थे। कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह सहित जिला प्रशासन के अन्य अधिकारियों ने इन फरियादियों की समस्याओं का तो निराकरण किया ही, साथ ही सभी से चर्चा कर वैश्विक महामारी कोरोना से बचाव के लिए किए जा रहे टीकाकरण के बारे में भी चर्चा की। सभी फरियादियों ने कहा उन्होंने कोरोना के टीके लगवा लिए हैं। इससे जाहिर हुआ कि जिले की लगभग सभी पात्र आबादी को कोरोना वैक्सीन के प्रथम डोज का टीका लग चुका है। 

कलेक्ट्रेट की जन-सुनवाई में डबरा से आईं ओमवती व राजामंडी ग्वालियर निवासी मीना एवं घाटीगाँव निवासी अंकुश जाटव को कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने रेडक्रॉस और शासन की अन्य योजनाओं के तहत नगद आर्थिक मदद दिलवाई। आर्थिक तंगी में जिंदगी बसर कर रहे परिवारों से ताल्लुक रखने वाली इन महिलाओं व अंकुश जाटव को इलाज व अन्य जरूरी प्रयोजन के लिये यह सहायता दिलाई गई। इसी तरह कुष्ठ रोग से पीड़ित सुरेश सिंह व उनकी धर्मपत्नी लखी देवी को कुष्ठ रोग मानव सेवा आश्रम में भर्ती कराकर उनके इलाज का इंतजाम भी कराया गया। 

इसी तरह मदद की आस में जन-सुनवाई में पहुँचे अन्य लोगों के नि:शुल्क इलाज का इंतजाम भी हो गया। कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी आशीष तिवारी व अपर जिला दण्डाधिकारी रिंकेश वैश्य सहित जिला प्रशासन के अन्य अधिकारियों ने इस बार की जनसुनवाई में पहुँचे सभी 130 फरियादियों की एक-एक कर समस्यायें सुनीं। साथ ही उनके आवेदनों के निराकरण की रूपरेखा भी तैयार की।