दोस्त बना सौदागर !

भिंड के युवक ने दिल्ली से किशोरी को अगवा कर किरायदार को बेचा

भोपाल। पश्चिमी दिल्ली के रणहौला में रहने वाली एक किशोरी को ऐप के माध्यम से भिंड के युवक से दोस्ती करना भारी पड़ गया. आरोपी ने किशोरी को अगवा कर लिया और अपने साथ भिंड ले गया. यहां पर किशोरी का शारीरिक शोषण किया. आरोपी ने किशोरी को 50 हजार रुपए में अपने ही किराएदार को बेच दिया. इतना ही नहीं आरोपी ने जबरन उनकी शादी करवा दी. क्राइम ब्रांच ने इस मामले में भिंड के आरोपी राजीव गर्ग को गिरफ्तार कर किशोरी को बरामद कर लिया है। डीसीपी मोनिका भारद्वाज के अनुसार, 29 मई को 16 वर्षीय किशोरी ने अपने परिजनों को बताया कि वह अपने दोस्त से मिलने जा रही है.

वह जब वापस नहीं आई, तो परिवार के सदस्यों ने उसकी तलाश शुरू कर दी, लेकिन उसका कुछ पता नहीं चला. इसके बाद उन्होंने बीते 30 मई को रणहौला थाने में अपहरण की FIR दर्ज कराई. इस मामले की जांच में एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग यूनिट को भी लगाया गया। पुलिस टीम ने किशोरी के परिवार एवं परिचितों से संपर्क किया. किशोरी के मोबाइल की कॉल डिटेल निकाली गई. उसमें मौजूद नंबरों के बारे में बारीकी से जांच की गई. इसमें एक मोबाइल नंबर पुलिस को भिंड का मिला था. घटना वाले दिन यह मोबाइल दिल्ली में ही सक्रिय था. 

पुलिस ने इस मोबाइल को लेकर छानबीन करते हुए भिंड से राजीव गर्ग नाम के व्यक्ति को गिरफ्तार किया. उसके पास से मोबाइल भी बरामद किया गया, जिसका वह इस्तेमाल कर रहा था. उसकी निशानदेही पर किशोरी को भिंड के ही एक घर से बरामद किया गया। जांच में पुलिस को पता चला कि किशोरी ने वी-लाइक ऐप अपने मोबाइल पर डाउनलोड किया था. इस पर उसने अपना एक प्रोफाइल बनाया, जिसके माध्यम से वह राजीव गर्ग के संपर्क में आई. राजीव ने यह आईडी माही गर्ग के नाम से बनाई थी. किशोरी को नहीं पता था कि जिससे वह चैटिंग कर रही है, वह एक युवक है जो गलत नियत रखता है. उसे बाद में पता चला कि यह शख्स पुरुष है. 

उसने राजीव से बातचीत बंद कर दी और उसका मोबाइल नंबर ब्लॉक कर दिया। कुछ दिन बाद उसने दूसरे नंबर से किशोरी को फोन कर इमोशनली ब्लैकमेल किया और मधुबन चौक पर मिलने के लिए बुला लिया. 29 मई को वह अपने परिवार से झूठ बोलकर उससे मिलने के लिए गई थी. वहां से वह उसे भिंड में बेचने के लिए ले गया था. आरोपी ने उसके साथ मारपीट करने के साथ ही यौन उत्पीड़न भी किया. इसके बाद राजीव गर्ग ने उसे राम मोहन नामक शख्स को 50 हजार रुपए में बेच दिया था. उसने किशोरी की शादी जबरन राम मोहन से करवा दी थी. गिरफ्तार आरोपी राजीव गर्ग 7 महीने तक दहेज के केस में जेल में रहा है. राम मोहन उसका किराएदार था जो फिलहाल फरार चल रहा है।