आई कार्ड चेकिंग के बाद ही जाने दिया गया धरनास्थल पर...

जंतर-मंतर पहुंचने से पहले किसानों की पुलिस से हल्की नोकझोंक

किसान जंतर-मंतर पर केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं. किसानों के प्रदर्शन को देखते हुए सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं. सिंधु बॉर्डर से पांच बसों में किसान जंतर-मंतर पहुंचे हैं. हालांकि, जंतर-मंतर पर पहुंचने से पहले किसानों की पुलिस से नोकझोंक भी हुई. दरअसल, जैसे ही किसानों की बस दिल्ली में दाखिल हुई वैसे ही दिल्ली पुलिस ने सभी बसों को रोक दिया. 

बसों में बैठे किसानों के आई कार्ड चेक किए गए. पुलिस ने किसान नेताओं को सख्त हिदायत दी कि 26 जनवरी जैसी घटना की पुनरावृत्ति ना हो. वहीं किसानों ने आरोप लगाया कि उन्हें तय समय पर दिल्ली पुलिस जाने नहीं दे रही है, विलंब कर रही है ताकि वह अपने समय पर जंतर-मंतर न पहुंच सके.

इन किसानों का नेतृत्व भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत और योगेंद्र यादव के साथ संयुक्त किसान मोर्चा के पदाधिकारी कर रहे थे. राकेश टिकैत व योगेंद्र यादव ने दिल्ली पुलिस के अधिकारियों से बातचीत की और काफी जद्दोजहद के बाद आखिर में किसानों को जंतर मंतर के लिए दिल्ली पुलिस अपने सुरक्षा घेरे के बीच लेकर रवाना हुई.