बाद में रखने के लिए मांगा दहेज…

बेटे की मौत के दो दिन बाद मनहूस कहकर बहू को घर से निकाला

ग्वालियर। ग्वालियर में महज 21 साल की उम्र में विधवा होने वाली एक नवविवाहिता पर उसके ससुरालवालों ने ऐसा सितम ढाया जिसे जानकर आप हैरान रह जाएंगे। घटना ग्वालियर के मोहना इलाके की है। जहां पति की मौत के दो दिन बाद ही सास-ससुर ने नवविवाहिता को मनहूस कहकर घर से निकाल दिया। नवविवाहिता का आरोप है कि वो मिन्नतें करती रही लेकिन सास-ससुर ने उसकी एक नहीं सुनी। इतना ही नहीं जब माता-पिता सास-ससुर के पास बेटी को घर में रखने की फरियाद लेकर पहुंचे तो उनसे दहेज की मांग की। जिसके बाद अब मामले की शिकायत थाने में दर्ज कराई गई है। हालांकि ससुराल पक्ष बहू के लगाए आरोपों को झूठा बता रहा है।

मनहूस कहकर बहू को घर से निकाला ग्वालियर के लोहागढ़ की रहने वाली प्रीति की शादी 1 जून 2020 को मोहना इलाके के रहने वाले रामअवतार धाकड से हुई थी। शादी को 11 महीने ही बीते थे कि 1 मई 2021 को अचानक रामअवतार बीमार पड़ा और उसकी मौत हो गई। आरोप है कि रामअवतार की मौत के दो दिन बाद ही 3 मई को प्रीति को उसके सास-ससुर व ससुरालवालों ने मनहूस कहकर आधी रात को घर से धक्के मारकर निकाल दिया। प्रीति का आरोप है कि उसने सास-ससुर के हाथ पैर पकड़े और कहा कि वो पति की यादों के सहारे जिंदगी गुजार लेगी लेकिन किसी ने उसकी एक नहीं सुनी और घर से निकाल दिया। 

दहेज की डिमांड की प्रीति का ये भी आरोप है कि जब उसके माता-पिता सास-ससुर से बेटी को घर में रखने की बात कहने पहुंचे तो सास-ससुर ने उन्हें भी काफी बुरा भला कहा। बाद में सास-ससुर में घर में रखने के एवज में पैसों की डिमांड की। जब काफी प्रयासों के बाद भी बात नहीं बनी तो अब बहु प्रीति ने माता-पिता के साथ मोहना थाने में सास-ससुर व देवरों के खिलाफ दहेज प्रताड़ना व घरेलू हिंसा की शिकायत दर्ज कराई है। वहीं इस पूरे मामले पर ससुराल पक्ष आरोपों को झूठा करार दे रहा है। देवर सुग्रीव सिंह का कहना है कि किसी ने भी भाभी को घर से नहीं निकाला है वो झूठा आरोप लगा रही हैं। पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है और मामले की जांच कर रही है।