बाइक सवारों ने आधे घंटे तक मचाया उत्पात…

मुरैना में कोरोना कर्फ्यू के दौरान-दहाड़े हुई ताबड़तोड़ फायरिंग

मुरैना शहर में जातीय संघर्ष को लेकर क्षत्रिय समाज के युवकों से जारी टकराव के बाद तीसरे दिन गुर्जर समाज के कुछ लोगों ने बलवा कर दिया। बाइक सवार करीब दो दर्जन से ज्यादा दहशतगर्दों ने शनिवार दोपहर करीब 12:30 बजे बाजार में अंधाधुंध फायरिंग की। वनखंडी रोड पर बदमाशों ने करीब आधे घंटे तक उत्पात मचाया। इसके बाद शहर में दहशत फैल गई। घटना में सुनीता शर्मा नाम की महिला को गोली लगी है। बदमाशों ने करीब दो दर्जन से अधिक फायर किए हैं। यही नहीं, बदमाशों ने वहां मौजूद बसों और चार पहिया वाहनों के कांच भी फोड़े। इसके बाद हवा में बंदूकें लहराते हुए भाग गए। 

कुछ लोगों ने इसका वीडियो भी बना लिया। लॉकडाउन में जहां आम व्यक्ति के घर से बाहर निकलने पर पाबंदी है। चप्पे-चप्पे पर पुलिस तैनात है। वहां इतना बड़ी घटना ने पुलिस प्रशासन को चुनौती दी है। इस वारदात के तार दो दिन पहले हुई एक घटना से जुड़े हैं। असल में दो दिन पहले सोशल मीडिया पर गुर्जर समाज के लोगों द्वारा क्षत्रिय समाज की महिलाओं के संबंध में अश्लील पोस्ट डाले गए थे। क्षत्रिय समाज के लोगों ने शिकायत की, तो पुलिस ने आईटी एक्ट के तहत केस दर्ज कर लिया। 

दूसरे दिन शुक्रवार को आक्रोशित क्षत्रिय समाज के लोगों ने बदला लेने के लिए गुर्जर समाज के लड़के की लाठी-डंडों से पिटाई कर दी। साथ ही, उसकी बाइक को तोड़ दिया। लगातार तीसरे दिन शनिवार को फिर गुर्जर समाज के लोगों ने यह दहशत फैलाई। कुछ लोगों ने इसका मोबाइल से वीडियो बना लिया। वीडियो में बाइक सवार लड़के गोलियां चलाते दिख रहे हैं। प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है, घटना में कई लोगों की जान जा सकती थी। लॉकडाउन में अधिकांश लोग घरों के अंदर थे। केवल सुनीता शर्मा (30) पत्नी प्रदीप शर्मा बाजार से लौट रही थी। उसने बदमाशों को बाइक पर आकर तोड़फोड़ करते देखा। ये बदमाश अंधाधुंध फायरिंग कर रहे थे। डर के मारे वह सड़क किनारे नीम के पेड़ नीचे छिप गई। इसी दौरान एक गोली पहले दीवार में लगी, बाद में छिटककर उसके सिर में लग गई। बदमाशों ने वहां मौजूद पांच बसों के शीशे तोड़ दिए। एक चार पहिया वाहन के भी शीशे तोड़े। इसके बाद हवा में बंदूकें लहराते हुए भाग गए। लोगों ने बताया, वनखंडी रोड पर पुलिस भी मौजूद थी, लेकिन पुलिस ने उन्हें रोकने की कोशिश नहीं की। 

कुछ लोगों का कहना है कि पुलिस के कुछ सिपाही मौजूद थे, जो लड़कों के तेवर देखकर डर गए थे। वे छिप गए। बताया जाता है कि घटना की शुरुआत राजनीतिक रसूखदारों की शह पर की गई है। पहले सभी लड़के क्षेत्र के राजनीति रसूखदार के यहां एकत्रित हुए। उसके बाद केएस ऑइल मील पर पहुंचे। वहां वहां फायरिंग की। इस पर वहां मौजूद पुलिस बल ने कुछ लड़कों को सिविल लाइन थाने में बंद कर दिया। उसके बाद वह वनखंडी रोड पर पहुंच, जहां उन्होंने बलवा किया। घटना के बाद ऑडियो वायरल हुआ है। 

इसमें गुर्जर समाज के किसी व्यक्ति ने क्षत्रिय समाज के लोगों को व्हाइट हाउस पर कल आने की चुनौती दी है। ऑडियो में कहा गया है कि अगर नहीं आ सकते, तो चूड़ियां भिजवा देते हैं। वनखंडी रोड पर कोतवाली थाने से चंद कदम दूर है। बदमाश लगातार आधे घंटे तक उत्पात मचाते रहे, लेकिन कोतवाली पुलिस मौके पर नहीं पहुंच सकी। मामले में एएसपी रायसिंह नरवरिया का कहना है कि हमने मामले में 9 लोगों को गिरफ्तार किया है। पांच लोगों को शुक्रवार को पकड़ा था। चार लोगों को शनिवार को पकड़ा है। अन्य आरोपियों को भी पकड़ा जाएगा।