नियम/कर्तव्य का पालन करने के लिए पढ़ा लिखा होना जरूरी नहीं है बस दिल में जज्बा होना चाहिए अपने कर्तव्य पालन का तो फिर कुछ भी असंभव नहीं है।