प्रदेश में इस तरह की घटनाएं न घटें इस पर विचार किया…

परिवहन मंत्री ने ग्वालियर बस दुर्घटना की जाँच के दिए आदेश 

ग्वालियर। परिवहन एवं राजस्व मंत्री गोविन्द सिंह राजपूत ने ग्वालियर-मुरैना मार्ग पर हुई ऑटो-बस दुर्घटना की जाँच के आदेश दिये है। उन्होंने बताया कि मध्यप्रदेश शासन के स्थानीय मंत्री प्रदुम्मन सिंह तोमर घटना स्थल पर घटना के तुरन्त बाद पहुँच गये थे। मंत्री गोविन्द सिंह राजपूत ने इस दुर्घटना को बहुत ही दर्दनाक एवं दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए मृतकों के प्रति अपनी श्रद्धाजंलि अर्पित की। आटो चालक सहित मारे गये 13 मृतकों के परिवारजनों को चार-चार लाख रूपये की आर्थिक सहायता दिये जाने के आदेश मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दिये है। 

उन्होंने बताया कि प्रारंभिक जाँच में दुर्घटनाग्रस्त बस क्रमांक एम.पी.07-पी-6882 वर्ष 2018 में ग्वालियर परिवहन कार्यालय में पंजीकृत है। जिसका फिटनेस वर्ष 2022, परमिट 2026 एवं वाहन का बीमा 31.08.2021 तक वैद्य पाया गया है। भविष्य में ऐसी दुर्घटना की पुनरावृत्ति न हो इसके लिये गंभीरता से प्रयास किये जा रहे है। मंगलवार को प्रात: पाँच बजे ग्वालियर से दिल्ली जा रही निजी बस जो अरूण गुप्ता के नाम पंजीकृत है, ग्वालियर-मुरैना रोड़ पर जलालपुर गाँव के पास एक दूध वाले को बचाते हुए सामने से आ रहे ऑटो क्रमांक एम.पी.-07आर.ए.-2329 के साथ दुर्घटनाग्रस्त हो गई। 

दुर्घटना के समय ऑटो में 12 महिलायें सवार थी। ऑगनवाड़ी में खाना बनाने के लिये ये महिलायें रात को दो ऑटो में सवार होकर जाती थी एवं सुबह काम के बाद वापस दो ऑटों से ही लौटती थी। घटना के दिन एक ऑटो खराब हो जाने के कारण वे एक ही आटो में सवार होकर लौट रही थी। ऑटो चालक सहित सभी 12 महिलाओं की दुर्घटना में मृत्यु हो गई। घटनास्थल पर आयुक्त परिवहन मुकेश जैन एवं अन्य वरिष्ठ अधिकारी मृतकों की सहायता एवं दुर्घटना की जाँच एवं घटनास्थल का मुआयना कर रहे है।