खराब हुई फसलों का खेतों में जाकर किया निरीक्षण…

सर्वे कर नुकसान का सही आंकलन करें : राजस्व एवं परिवहन मंत्री

भोपाल। राजस्व एवं परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने शनिवार को ओलावृष्टि से खराब हुई गेहूं व चना की फसलों का मौके पर जाकर निरीक्षण किया। ओलावृष्टि से खेतों में बिछी फसलों को देखकर उन्होंने खुद स्वीकार किया कि फसलों को बड़ा नुकसान हुआ है। राजस्व मंत्री के आने खबर सुनकर गांव-गांव में किसान हांथों में बालियां लेकर सड़कों पर इंतजार करते मिले, लेकिन मंत्री राजपूत ने किसानों के साथ खेतों में जाकर सांत्वना दी। उन्होंने शनिवार को सागर जिले के सीहोरा, मुहारा, हंसरई, जोहरिया, खजुरिया, मसुरहाई, बेरखेड़ी, नोंरजा, बिचपुरी, आदि गांवों का दौरा किया एवं हालातों से रूबरू हुए। 

मौके पर मौजूद राहतगढ़ एसडीएम रमेश पांडेय एवं तहसीलदार एसके प्रजापति सहित पटवारी आरती विश्वकर्मा को निर्देश देते हुए मंत्री श्री राजपूत ने कहा कि सर्वे में कोई खेत बचना नहीं चाहिए फसलों के नुकसान का सही आंकलन कर रिपोर्ट तुरंत भेजे ताकि मुआवजे की कार्रवाई जल्दी हो सके। इस काम में जरा भी लापरवाही हुई तो बर्दाश्त नहीं की जाएगी। उन्होंने कहा कि मैं खुद देख रहा हूं कि गेहूं पूरा का पूरा खराब हो गया है, चने की फसल में भी बड़ा नुकसान हुआ है। मंत्री श्री राजपूत के  भ्रमण के दौरान किसानों द्वारा पटवारी पूनम पाठक की शिकायत की जिस पर राजस्व मंत्री ने एसडीएम राहतगढ़ को तुरंत निर्देश दिये कि पटवारी को उक्त हल्के से हटा दिया जाये। 

किसानों से मुखातिब होते हुए मंत्री राजपूत ने कहा कि किसी को भी चिंता करने की आवश्यकता नहीं है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान हमेशा की तरह किसानों की तकलीफ में आपके साथ हैं। नुकसान की एक-एक पाई की भरपाई सरकार करेगी। प्रदेश में जहां-जहां भी ओले पड़े हैं, भोपाल में पीएस को भी बोला दिया है। आज से ही सर्वे शुरू हो गया है। इस अवसर पर प्रमुख रूप से मंडल अध्यक्ष कमल पटैल, जगदीश साहू, रामकुमार यादव, राकेश दुबे, भगवान सिंह, अवध नारायण साहू, प्रेमप्रकाश साहू, पप्पू राय, जितेन्द्र राजपूत, अमर सिंह, खिलान सिंह, सेलट सिंह, रामकुमार साहू उपस्थित रहे।