बजट 2021-22 : 1956 की धारा 97 के अंतर्गत…

नगर पालिका निगम का 2021-22 का बजट हुआ तैयार

ग्वालियर। दिनांक 31 मार्च 2021  मध्यप्रदेश नगर पालिक निगम अधिनियम 1956 की धारा 97 के अंतर्गत नगर पालिक निगम ग्वालियर का वित्तीय वर्ष 2021-22 के लिये बजट तैयार किया गया है। 

बजट के मुख्य बिन्दु निम्नानुसार हैः- 

  • वित्तीय वर्ष 2021-22 के बजट में राजस्व मद में 611,72,86,000/ (छह सौ ग्यारह करोड़ बहत्तर लाख छियासी हजार)रू. की आय तथा 5,33,90,24,000/-(पांच सौ तैतीस करोड़ नब्बे लाख चैबीस हजार) रू. के व्यय का आंकलन किया गया है। इस प्रकार राजस्व मद में व्यय पर आय का आधिक्य रू. 77,82,62,000/-(सतत्तर करोड़ बियासी लाख बासठ हजार) रू. है। 
  • वित्तीय वर्ष 2021-22 के बजट में पंूजीगत मद में 678,38,20,000/-(छह सौ अठहत्तर करोड़ अड़तीस लाख बीस हजार) रू. की आय तथा 737,35,04,000/-(सात सौ सैतीस करोड़ पैंतीस लाख चार हजार) रू. के व्यय का प्रावधान रखा गया है। इस प्रकार पूंजीगत मद में आय पर व्यय का आधिक्य रू. 58,96,84,000/- (अटठावन करोड़ छियानवे लाख चैरासी हजार) है।
  • इस प्रकार कुल बजट पूंजीगत तथा राजस्व मद में कुल 1290,11,06,000/-(बारह सौ नब्बे करोड़ ग्यारह लाख छह हजार) रू. का प्रस्तुत किया गया है जिसमें स्वयं के स्त्रोतों से आय का 5 प्रतिशत अर्थात रू. 17,87,64,200/- (सत्रह करोड़ सतासी लाख चैसठ हजार दो सौ) संचित निधि में रखने का प्रावधान किया जाकर शुद्ध 98,13,800/- (अन्ठानवे लाख तेरह हजार आठ सौ) रू. आधिक्य का बजट प्रस्तुत किया गया है।  
  • नगर पालिक निगम ग्वालियर के वित्तीय वर्ष 2021-22 के बजट में आत्मनिर्भर ग्वालियर के लिये तैयार किये गये पंचवर्षीय रोडमेप के प्रावधानों को मूर्त रूप दिये जाने हेतु योजना तैयार की गई है। 

  • स्लाॅटर हाउस का आधुनिकीकरण। 
  • मैकेनाइज्ड रोड स्वीपिंग। 
  • वाटर फाॅगर मषीन के माध्यम से वायु गुणवत्ता सुधार। 
  • वृक्षारोपण में वृद्धि के लिये धनराशि की व्यवस्था हेतु वृक्ष काटने के शुल्क में बढ़ोतरी।  
  • ठोस अपशिष्ट कलेक्शन हेतु नवीन इलेक्ट्रिक वाहनों का क्रय। 
  • ई-व्हीकल चार्जिंग स्टेशनों का निर्माण। 
  • मुख्य मार्गो को डस्ट फ्री किया जाना। 
  • रोड साइड ग्रीनपेच निर्माण ।
  • नाईट चैपाटी निर्माण । 
  • पार्को का उन्नयन, कैन्टीन व खेल उपकरणों की व्यवस्था। 
  • हाॅकर्स जोन की व्यवस्थाओं मंे सुधार किया जायेगा। 
  • जलकर तथा सीवर की आई.डी. को संपत्तिकर की आई.डी. से एकीकृत किया जाकर उपभोक्ता को समस्त प्रकार के कर/शुल्क पोर्टल पर जमा करने की सुविधा ।
  • निकाय द्वारा संचालित समस्त विवाह वाटिका/सामुदायिक भवन आदि की ई-नगर पालिका द्वारा बुकिंग की व्यवस्था।
  • मुक्तिधाम/शवदाह गृहों का उन्नयन। 
  • पंजीकृत हाॅकर्स को स्मार्ट कार्ड से भुगतान की सुविधा। 
  • विज्ञापनो ंसे आय में वृद्धि। 
  • बेहतरी प्रभार लागू किया जाकर उसी क्षेत्र में नवीन सड़क निर्माण एवं  अन्य सुविधाऐं।
  • सड़क निर्माण हेतु राशि में बढ़ोतरी ।
  • सुविधायुक्त बस स्टैण्ड का निर्माण । 
  • पैकेज्ड वाटर के प्लांट की स्थापना तथा एन.यू.एल.एम. समूहों के माध्यम से विक्रय कर रोजगार सृजन । 
  • सोडियम स्ट्रीट लाईट का एल.ई.डी. में परिवर्तन । 
  • विद्युत जनरेशन हेतु सोलर माॅडल का विकास। 
  • नवीन डी.एम.ए. (डिस्ट्रिक्ट मीटरिंग एरिया) का क्रियान्वयन। 
  • जलप्रदाय एवं सीवर प्रणाली का विस्तार । 
  • चंबल नदी से जल परिवहन ।
  • दीनदयाल रसोई के नये केन्द्र खोले जायेंगे। दीनदयाल एक्सपे्रस अंतर्गत एक नवीन एक्सप्रेस प्रारंभ । 
  • रैन बसेरा केन्द्रों पर सुविधाऐं बेहतर की जायेंगी।
  • विशेषज्ञ संस्थाओं के माध्यम से खेल प्रतिस्पर्धाओं का मानक स्तर पर आयोजन। 
  • खेल प्रतिस्पर्धाओं में कैन्टीन व विज्ञापन के माध्यम से आय का सृृजन।