दिगंबर जैन मंदिर लाला गोकुलचंद में...

कर्मों के फल से कोई नही बचता जैसे कर्म करोगे वैसा फल मिलेगा : मुनिश्री

ग्वालियर। संतो का काम मनुष्य को धर्म का मार्ग दिखाना है। जीवन में धन तो हर कोई कमा सकता है, लेकिन भक्ति करने का सौभाग्य हर किसी के नसीब में नहीं होता है। प्रभू भक्ति का धन जो कमा लेता है उसका कल्याण होता है। संसार में कर्म फल से कोई बच नहीं सकता है। जैसे कर्म करोगे वैसे ही फल मिलेगे। पीडित जीव की सेवा से बढकर कोई धर्म नही है। सेवा और पूजा समझकर किए गए कार्य खुद के लिए तो प्रसन्नता दायक होते ही है इससें भगवान भी खुश होते है। कर्म ऐसे करें कि हमें पछताना न पडे।

उक्त उद्गार जैन राष्ट्रसंत मुनिश्री विहर्ष सागर महाराज ने आज मंगलवार को उपग्वालियर लोहमंडी स्थित दिगंबर जैन लाला गोकुलचंद जैसवाल पंचायती मदिर में मंगल प्रवेश के दौरान धर्मसभा को संबोधित करते हुए व्यक्त किए। मुनिश्री विजयेश सागर महाराज मोजूद थे। मुनिश्री ने कहाकि जिसका स्वभाव सरल हो, मन निर्मल हो, और जो मिल जाए उसी में सतोंष हो ऐसे व्यक्ति दुनिया में विरलें ही होते है। भौतिकता की अंधी दौड़ में मनुष्य पाप कर्म करने से जरा भी हिचकता नहीं है। आज युवतियों का धन फैशन और युवकों का धन व्यसन में बर्बाद हो रहा है। धन का हमेशा सदुपयोग करना चाहिये। जिससे अच्छा स्वास्थ्य और सुविधाएं प्राप्त हो सके। 

मुनिश्री के चरणो में मदिर प्रबंध समिति के अध्यक्ष पदमचंद्र जैन, मंत्री देवेद्र कुमार जैन, नवरंग जैन, पवन जैन, मुकेश जैन, दिलीप जैन काजू, राजू जैन, दिलीप जैन, अभिलाष जैन, रविंद्र जैन, मनीष जैन, अलोक जैन, राजुल जैन, अमित जैन, सहित पंचकल्याण कमेटी ने भेंटकर आशीर्वाद लिया। संचालन मुकेश जैन ने किया। जैन समाज के प्रवक्ता सचिन जैन आदर्श कलम ने बताया कि राष्ट्रसंत मुनिश्री विहर्ष सागर महाराज एवं मुनिश्री विजयेश सागर महाराज ससंघ मंगलवार को सुबह गोपाचल पर्वत से पद विहार कर उपग्वालियर लोहमंडी स्थित दिगंबर जैन मंदिर लाला गोकुलचंद जैसवाल पहुचे। 

जहाॅ समाजजनो ने मुनिश्री की अगवानी कर पाद प्रक्षालन और आरती उतारी के आशीवाद लिया। मुनिश्री ने मंदिर के मूलनायक भगवान पार्श्वनाथ के दर्शन किए। मुनिश्री विहर्श सागर महाराज एंव विजयेश सागर महाराज ससंघ के सानिध्य में 10 फरवरी को शाम को 7 बजे से 22 फरवरी से आयोजित होने वाले पंचकल्याण महोत्सव में भाग लेने वाले भगवान के माता-पिता की गोद भाराई मंदिर समिति एवं समाज के लोगा भारेगे। मुनिश्री विहर्ष सागर महाराज ससंघ 11 फरवरी को प्रात 8 बजे उपग्वालियर लोहमंडी दिगंबर लाला गोकुलचंद जैन पंचायती मंदिर से थाठीपुर स्थित गुलाबचंद की बागिची जैन मंदिर पहुचेगे। जहाॅ प्रात 10 बजे से मुनिश्री के मंगल प्रवचन एवं कार्यक्रम होगे।