महाराष्ट्र सरकार और कंगना विवाद में उमा भारती की एंट्री…

उद्धव ने ठाकरे परिवार की गरिमा को गिराया : उमा भारती


फिल्म अभिनेत्री कंगना रनौत के खिलाफ महाराष्ट्र सरकार और बीएमसी द्वारा की गई कार्रवाई को लेकर राजनीति गरमा गई है. मध्य प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ने इस मसले परर प्रतिक्रिया देने हुए महाराष्ट्र की उद्धव सरकार पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि  इस कार्रवाई ने ठाकरे परिवार की गरिमा को गिराया है. पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ने उद्धव सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि  ठाकरे परिवार एक महान परिवार माना जाता है, बाला साहेब ठाकरे महान व्यक्ति माने गए और उनके पुत्र मुख्यमंत्री हैं, लेकिन अचानक उनके द्वारा कंगना के खिलाफ जो कार्रवाई  हुई है इसने उनकी गरिमा के साथ-साथ सरकार व बीएमसी की गरिमा को भी गिराया है. 

उमा भारती ने कहा कि  अगर कंगना का ऑफिस अतिक्रमण की सूची में था तो फिर पहले गिरा दिया होता, अभी का समय चुनना पूरी तरह से पॉलिटिकल है. आपको बता दें कि बीजेपी नेता उमा भारती से पहले सांसद साध्वी प्रज्ञा ने कंगना रनौत पर हुई कार्रवाई को लेकर कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराया था. उन्होंने कहा था कि  कंगना के ऑफिस पर BMC की कार्रवाई के पीछे शिवसेना का हाथ नहीं है. महाराष्ट्र में गृह विभाग कांग्रेस के पास है, और उन्हीं के इशारे पर महाराष्ट्र सरकार यह कार्रवाई कर रही है. प्रज्ञा बोली दिवंगत बाला साहब ठाकरे ने कई बार उनकी मदद की है. 

कल बुधवार को BMC ने कंगना रनौत के मुंबई ऑफिस का कुछ हिस्सा गिरा दिया था. BMC का आरोप था कि कंगना के ऑफिस का एक हिस्सा अतिक्रमण कर बनाया गया है. फिलहाल अभी हाईकोर्ट ने किसी भी तरह की कार्रवाई पर रोक लगा दी है. कंगना ने मुंबई पहुंचते ही सीएम उद्धव ठाकरे पर निशान साधते हुए कहा था, 'आज मेरा घर टूटा है, कल तेरा घमंड टूटेगा'. जिसके बाद सीएम को 'तू-तड़ाक' से बात करने पर कंगना पर FIR दर्ज की गई है. पिछले कुछ दिनों से कंगना रनौत सुशांत मामले में अपने बयानों की वजह से सुर्खियों में बनी हुई हैं.