लद्दाख में 4.5 की तीव्रता से कांपी धरती…
एक दिन में तीन राज्यों में आया भूकंप

कोरोना कहर के बीच देश भर के विभिन्न हिस्से से भूकंप के झटके महसूस किए जा रहे हैं. शुक्रवार दोपहर जहां हरियाणा के रोहतक व आस-पास क्षेत्रों में भूकंप के झटके महसूस किए गए, तो वहीं देर शाम लद्दाख में भी 4.5 तीव्रता से भूकंप के झटके महसूस किए गए. लद्दाख में शुक्रवार देर शाम 8 बजकर 15 मिनट पर भूकंप के झटके महसूस किए गए. भूकंप का केंद्र लद्दाख रहा. भूकंप के झटके जमीन के 25 किलोमीटर की गहराई से महसूस हुए. लद्दाख में आए भूकंप की तीव्रता 4.5 रही. इससे पहले शुक्रवार देर शाम को मेघालय के तुरा से 79 किलोमीटर पश्चिम की ओर भूकंप आया. 

रिक्टर स्केल पर इस भूकंप की तीव्रता 3.3 मापी गई. इससे पहले शुक्रवार को हरियाणा के रोहतक व आस-पास के क्षेत्र में दोपहर 3 बजकर 32 मिनट पर भूकंप का झटका महसूस किया गया. रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 2.8 रही. भूकंप का केंद्र रोहतक में जमीन से 9 किलोमीटर अंदर रहा. भूकंप की तीव्रता ज्यादा नहीं रही इसलिए लोगों को झटका महसूस नहीं हुआ. रोहतक में बुधवार को भी दोपहर 12 बजकर 58 मिनट पर भूकंप का झटका महसूस किया गया था, जिसकी तीव्रता 2.8 थी. भूकंप का केंद्र रोहतक में जमीन से 5 किलोमीटर अंदर था. वहीं, मिजोरम में भी लगातार भूकंप के झटके महसूस किए जा रहे हैं. 

मिजोरम में बुधवार को लगातार चौथे दिन रात 1 बजकर 14 मिनट पर चमफाई जिले में भूकंप आया. रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 4.5 मापी गई थी. मिजोरम में मंगलवार रात को भी भूकंप के झटके महसूस किए गए थे. 21 जून को मिजोरम सहित असम, मेघालय और मणिपुर में भूकंप के झटके महसूस किए गए थे. रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 5.1 मापी गई थी. वहीं, गुजरात में 15 जून को भूकंप आया था. भूकंप की तीव्रता रिक्टर स्केल पर 4.5 रही. भूकंप का केंद्र कच्छ से 15 किलोमीटर दूर रहा. वहीं, 14 जून को कच्छ में 5.5 तीव्रता का भूकंप आया था.