शहर के प्रमुख चौराहों का कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक ने किया निरीक्षण…
यातायात व्यवस्था को और सुदृढ़ करने हेतु किए जायेंगे समन्वित प्रयास : भसीन

ग्वालियर। शहर की यातायात व्यवस्था को और सुदृढ़ करने के लिये जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन एवं नगर निगम संयुक्त रूप से कार्य करेंगे। शहर में ट्रैफिक व्यवस्था को और बेहतर करने के लिये जो भी आवश्यक कार्य हैं उन्हें समय-सीमा निर्धारित कर कराया जायेगा। कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह एवं पुलिस अधीक्षक नवनीत ने मंगलवार को पुलिस कंट्रोल रूम में शहर की यातायात व्यवस्था के संबंध में अधिकारियों के साथ बैठक की और शहर का भ्रमण कर यातायात व्यवस्था का अवलोकन भी किया। 

पुलिस कंट्रोल रूम में आयोजित बैठक में पुलिस अधीक्षक नवनीत भसीन ने शहर की यातायात व्यवस्था के लिये किए जाने वाले आवश्यक कार्यों की जानकारी प्रजेण्टेशन के माध्यम से प्रस्तुत की। उन्होंने कलेक्टर को बताया कि शहर में 25 से अधिक विद्युत के ऐसे पोल हैं, जिनसे यातायात प्रभावित होता है। इन सबको स्थानांतरित किया जाना आवश्यक है। इसके साथ ही शहर में वीडियोकोच बसों के लिये एक निर्धारित स्थल का चयन कर बसों का संचालन कराया जाना भी आवश्यक है। 

उन्होंने बताया कि शहर की प्रमुख सड़कों पर ठेले एवं फुटपाथों पर व्यवसाय करने वाले छोटे-छोटे दुकानदारों को भी उचित स्थान उपलब्ध कराकर स्थानांतरित किया जाना जरूरी है। मुरार एवं हजीरा के ठेले वालों को होकर्स जोन में व्यवस्थित करने का कार्य किया गया है। इससे यातायात में सुधार भी हुआ है। इसी प्रकार शिंदे की छावनी और कम्पू क्षेत्र में भी ठेले वालो को होकर्स जोन में शिफ्ट किया जाना आवश्यक है। इसके साथ औद्योगिक क्षेत्र बामोर एवं मालनपुर से आने वाली स्टाफ बसों को जाने एवं आने के लिये एक निर्धारित स्थलों पर रूकने की अनुमति निर्धारित की जाना आवश्यक है।  

बैठक में स्कूल बसों के संचालन के संबंध में भी विस्तार से जानकारी दी। स्कूल बसों के कारण भी शहर में यातायात प्रबंधन में परेशानी होती है। स्कूल बसें जो 52 सीटर हैं उन्हें 20 या 25 सीटर तक निर्धारित कर संचालन की अनुमति प्रदान की जाना आवश्यक है। शहर के व्यस्ततम क्षेत्रों में छोटी बसें और खुले क्षेत्र में बड़ी बसों का संचालन हो, इसका निर्णय भी लिया जाना आवश्यक है। 

 बैठक में कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने कहा कि सभी बिंदुओं पर संबंधित विभागीय अधिकारियों के साथ शीघ्र बैठकें आयोजित कर बिंदुओं पर कार्रवाई सुनिश्चित की जायेगी। विद्युत मंडल के माध्यम से शहर के प्रमुख स्थल के ऐसे पोल एवं ट्रांसफार्मर जिनसे यातायात प्रभावित हो रहा है उनको स्थानांतरित करने के संबंध में आवश्यक कार्रवाई भी सुनिश्चित की जायेगी। उन्होंने कहा कि हॉकर्स जोन में ठेलों को शिफ्ट करने हेतु पुलिस विभाग एवं नगर निगम संयुक्त रूप से अभियान चलाकर कार्रवाई सुनिश्चित करें, इसके लिये भी निर्धारित कार्यक्रम बनाकर कार्य किया जायेगा। 

कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक ने विभागीय अधिकारियों के साथ शहर के व्यस्ततम यातायात वाले चौराहों का भ्रमण कर यातायात प्रबंधन के लिये की जाने वाली कार्रवाई के संबंध में निरीक्षण किया। उन्होंने सिंधिया कन्या स्कूल सड़क, एलआईसी चौराहा का निरीक्षण कर यातायात व्यवस्था के लिये आवश्यक कार्रवाई करने के लिये संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया। इसके साथ ही मोतीमहल में स्टेट बैंक के पास से बनाई जा रही नवीन सड़क के कार्य का भी अवलोकन किया। 

कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने इसके पश्चात शान शौकत चौराहे पर यातायात प्रबंधन के लिये प्रस्तावित कार्रवाई के संबंध में निरीक्षण कर आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। इसके पश्चात शिंदे की छावनी, रामदास घाटी स्थित हॉकर्स जोन का भी अवलोकन किया। उन्होंने कहा कि उक्त स्थान उपयुक्त है, इसकी साफ-सफाई एवं अन्य आवश्यक व्यवस्थायें नगर निगम के माध्यम से पूर्ण कराकर हॉकर्स जोन में खेलों की शिफ्टिंग का कार्य कराया जायेगा। शहर भ्रमण के दौरान मोतीमहल में एक व्यक्ति अपने बच्चे के साथ बिना मास्क के वाहन पर जाता देख पुलिस अधीक्षक नवनीत भसीन ने उसे रोका और कहा कि अपनी और अपने बच्चें की तो चिंता करो। बिना मास्क के घूम रहे हो और वह भी अपने बच्चे को साथ में लेकर । 

इस प्रकार की लापरवाही अच्छी नहीं है। युवक ने इसके लिये माफी मांगी और पुलिस अधीक्षक ने अपनी गाड़ी से निकालकर उसे दो मास्क प्रदान कर कहा कि खुद भी लगाओ और अपने बच्चे को भी लगाओ। सीईओ स्मार्ट सिटी जयति सिंह, एडिशनल एसपी पंकज पाण्डेय, एडिशनल एसपी  सतेन्द्र सिंह, नगर निगम के ट्रैफिक सेल से जुड़े अधिकारी, यातायात पुलिस के अधिकारीगण और विभागीय अधिकारी उपस्थित थे ।