राजस्व अधिकारियों की दिए निर्देश…
पीएम किसान सम्मान निधि योजना में प्रगति लाएं : कलेक्टर श्री सिंह 

ग्वालियर। पीएम किसान सम्मान निधि योजना शासन की सर्वोच्च प्राथमिकता वाली योजना है। अत: सभी राजस्व अधिकारी यह सुनिश्चित करें कि इस योजना की प्रगति बढ़ाएं। इसके लिये पटवारियों की बैठक आयोजित कर गति लाने के पटवारियों को निर्देश दिए जाएं। ऐसे पटवारी जो योजना के क्रियान्वयन में रूचि नहीं ले रहे एवं प्रगति कमजोर रहती है तो उनके विरूद्ध कार्रवाई करें। यह निर्देश कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने राजस्व अधिकारियों के कार्यों की समीक्षा करते हुए सभी राजस्व अधिकारियों को दिए। 

कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह मंगलवार को कलेक्ट्रेट के सभाकक्ष में आयोजित राजस्व अधिकारियों की बैठक को संबोधित कर रहे थे। बैठक में अपर कलेक्टर अनूप कुमार सिंह, एडीएम किशोर कन्याल, अपर कलेक्टर टी एन सिंह, अपर कलेक्टर रिंकेश वैश्य सहित जिले के सभी अनुविभागीय दण्डाधिकारी तथा राजस्व अधिकारीगण उपस्थित थे। कलेक्टर श्री सिंह ने राजस्व विभाग के अधिकारियों की समीक्षा में कहा कि कोविड-19 के संक्रमण को रोकने एवं लॉकडाउन का पालन कराने में राजस्व अधिकारी द्वारा बेहतर कार्य किया गया है। इसी प्रकार आगे भी चुनौतियां स्वीकार कर कोविड-19 के साथ हम सरकार की योजनाओं एवं कार्यक्रमों तथा अभियानों को गति देते हुए राजस्व संबंधित कार्यों को भी बेहतर तरीके से करें। 

कलेक्टर श्री सिंह ने निर्देश दिए कि राजस्व पुस्तक परिपत्र 6 – 4 के प्रकरण तथा अन्य आर्थिक सहायता का एक भी प्रकरण लंबित न रहे, सभी एसडीएम अपने-अपने स्तरों पर इसकी समीक्षा भी कर लें। कलेक्टर ने कहा कि वर्षा ऋतु को ध्यान में रखते हुए अति वर्षा एवं बाढ़ नियंत्रण की सभी पूर्व तैयारियां कर लें। इसके लिये एसडीएम संबंधित विभागों के अधिकारियों की अनुविभागीय स्तरों पर बैठक आयोजित कर कार्ययोजना बना लें। ऐसे स्थान जहां पूर्व वर्षों में बाढ़ की स्थिति निर्मित हुई है, उन स्थानों को अभी से चिन्हित कर आवश्यक व्यवस्थायें सुनिश्चित कर लें। कलेक्टर ने कहा कि सीमांकन के प्रकरणों को गंभीरता से लें। अभी खेतों में फसल न होने के कारण सीमांकन के जो प्रकरण लंबित है उनके निराकरण की कार्रवाई करें। इसके लिये संबंधित पक्षों को विधिवत रूप से सूचना भी दें। पुराने नामांतरण के ऐसे प्रकरण जो अद्यतन नहीं हैं उन्हें राजस्व रिकॉर्ड में अद्यतन करायें, लेकिन प्रकरण लंबित न रहें। 

कलेक्टर श्री सिंह ने समीक्षा करते हुए सभी एसडीएम को निर्देश दिए कि पटवारी अपने – अपने निर्धारित मुख्यालय पर रहें, रात्रि विश्राम करें तथा पंचायत भवनों में बैठकर कार्य करें, उनके बैठने के दिन, समय एवं उनका मोबाइल नम्बर भी पंचायत भवन के सूचना बोर्ड पर अंकित किया जाए। उन्होंने कहा कि आगामी माहों में होने वाली गिरदावरी का कार्य पूरी तरह से किसानों के बीच में कराएं। नजूल के प्रकरण भी लंबित न रहें। कलेक्टर ने कहा कि कोविड-19 वैश्विक महामारी के कारण राजस्व न्यायालयों में कार्य स्थगित रखा गया था, लेकिन शासन के निर्देशों के अनुरूप राजस्व न्यायालय सुचारू रूप से शुरू करें। उन्होंने सीएम हैल्पलाइन में लंबित राजस्व प्रकरणों की समीक्षा की।