सामुदायिक संक्रमण की स्थिति बनी !
ग्वालियर में एक ही दिन में मिले 29 कोरोना पॉजिटिव
File Photo

ग्वालियर। जिले में केवल डबरा के ठाकुरबाबा रोड पर कांटेक्ट हिस्ट्री के कारण अब तक सामुदायिक संक्रमण की स्थिति बनी थी। इसके अलावा शहर में अन्य जहां भी मरीज मिले हैं, वहां ट्रेवल हिस्ट्री की बात ही सामने आ रही थी। डॉक्टर भी यह मानने लगे थे कि ग्वालियर में संक्रमित व्यक्तियों में वायरस लोड कम है, जिसके कारण वह दूसरों को संक्रमित नहीं कर पा रहा है। मगर हाल ही में कुछ ऐसे मामले आए हैं, जिसमें बाहर से आने वाले लोगों के कारण परिवार के अन्य लोग भी संक्रमित हुए हैं। इसके कारण बदनापुरा, घोसीपुरा के बाद अब मुरार बड़ा कोरोना हब बन चुका है। क्योंकि मंगलवार को मुरार के एक ही परिवार के 20 लोग पॉजिटिव पाए गए हैं।

सामुदायिक संक्रमण तब माना जाता है जबकि संक्रमण का सोर्स पता नहीं होता। वर्तमान में मुरार एवं बदनापुरा में इस प्रकार की स्थिति बन गई है, क्योंकि एकमुश्त कई मरीज सामने आने से यहां पर कांटेक्ट हिस्ट्री का पता लगाना मुश्किल हो रहा है। वहीं बदनापुरा में सही जानकारी नहीं मिलने से प्रशासन की परेशानी बढ़ गई है, क्योंकि सभी लोग यह कहकर बच रहे हैं कि किसी की आवाजाही नहीं हुई है और होम क्वारंटाइन में रह रहे हैं। जबकि संक्रमित मरीजों का लगातार मिलना जारी है।

बंशीपुरा निवासी 37 वर्षीय चाचा एवं 15 वर्षीय भतीजा संक्रमित पाए गए हैं। यह दोनों अपनी रिश्तेदारी में आने वाले 28 वर्षीय युवक को देखने गए थे। यह युवक दिल्ली से बंशीपुरा स्थित अपने घर आया हुआ था। यह युवक बाद में पॉजिटिव पाया गया। जब चाचा भतीजे की जांच हुई तो चाचा भतीजा पॉजिटिव पाए गए। अब चाचा भतीजे के परिवार के 20 लोग मंगलवार को पॉजिटिव पाए गए हैं।

बदनापुरा से 5 बहने नागपुर से अपने घर लौटी थी। सालों बाद घर में बेटियां आई तो सभी खुश थे। जब संक्रमित केस मिले तो इन बहनों की भी जांच कराई गई। बहनें पॉजिटिव आई। परिजनों की जांच हुई तो करीब 65 वर्षीय दादाजी भी संक्रमित पाए गए। इनको पैरालायसिस के साथ ही अस्थमा की भी शिकायत है। यह सालों से शहर से बाहर नहीं निकले, लेकिन संक्रमित मरीजों के संपर्क में आने से रिपोर्ट पॉजिटिव आई।

ठाकुरबाबा रोड डबरा में रोहिरा एवं गुप्ता परिवार कोरोना का बड़ा सेंटर बन चुके हैं। इस कॉलोनी में अब तक 28 मरीज मिल चुके हैं। इनके परिवार का कोई भी सदस्य दूसरे राज्य या जिले में नहीं गया था। एक बहन जरूर इंदौर से ग्वालियर आई थी। जो बाद में जांच में पॉजिटिव पाई गई। इसके अलावा एक रिश्तेदार भी गुड़गांव से आया था। जिनसे संक्रमण फैलने की आशंका जताई जा रही है।

मुरार से सेम्पल, तारागंज निवासी
नागदेवता मंदिर के पास 
मुरकुता माता मुरार
मानव विहार मुरार
तारागंज मुरार
माधौगंज मुरार
हाथीखाना 
वंशीपुरा
हाथाीखाना 
हाथीखाना 
मुरार
मुरार
हाथीखाना
हाथाीखाना 
हाथीखाना 
हाथीखाना
मुरार में सोनी
हाथीखाना 
हाथीखाना
मुरार
मुरार
मुरार
मुरार
धनेली

जेएएच से सेम्पल गए
------------------
जेएए में भर्ती, न्यू गल्ला मंडी झांसी
शब्दप्रताप आश्रम 
वंशीपुरा मुरार
वंशीपुरा मुरार

अंचल की स्थिति
-----------
गुना एक 
भिण्ड के तीन