सिंधिया पर सधे हुए शब्दों में तंज !
बड़ी पार्टी है भाजपा सभी के लिए खुले हैं दरवाजे : तोमर
File Photo

मंगलवार को ऑनलाइन प्रेस कॉन्फ्रेंस में केंद्रीय कृषि तथा कल्याण पंचायती राज मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने मोदी सरकार के एक साल पूरे होने पर उपलब्धियों को गिनाया। पहली बार भाजपा में आए ज्योतिरादित्य सिंधिया पर सधे हुए शब्दों में तंज कसते हुए कहा कि भाजपा बहुत बड़ी पार्टी है। हर किसी को पचाने में सक्षम है। उनसे सवाल किया गया था कि नगर भाजपा अध्यक्ष का विरोध आपके गुट ने किया। इससे नहीं लगता कि ग्वालियर-चंबल की राजनीति में अब दो पावर सेंटर बन गए हैं। ऑनलाइन प्रेस कांफ्रेंस में भाजपा के नवागत जिलाध्यक्ष कमल माखीजानी भी मुखर्जी भवन में मौजूद थे। कमल माखीजानी ने केंद्रीय मंत्री का ध्यान अपनी तरफ आकर्षित कराने के लिए नमस्ते भी की, लेकिन नरेंद्र सिंह तोमर का ध्यान उनकी तरफ नहीं गया। इससे संगठन में इस बात की भी चर्चा चलने लगी है कि समर्थकों के साथ केंद्रीय मंत्री भी अध्यक्ष चुने जाने की प्रक्रिया से खुश नहीं हैं।

मंगलवार को ऑनलाइन प्रेस क्रांफ्रेंस को संबोधित करते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी ने साफ कर दिया कि भाजपा को मिला जनादेश सिर्फ सरकार के संचालन के लिए नहीं है। बल्कि ताकतवर भारत को विकास के नए पथ पर ले जाना के लिए है। इसके लिए कुछ कड़वे निर्णय लेने पड़ेंगे। मोदी ने आम नागरिक को केंद्र में रखकर कई एतिहासिक निर्णय लिए हैं। मोदी सरकार कोरोना महामारी से सफलता पूर्वक देशवासियों की मदद से लड़ रही है। मजदूरों की घर वापसी के उपरांत रोजगार की समस्या पर केंद्रीय मंत्री तोमर ने कहा कि लॉकडाउन में सभी ने देखा कि खाद्यान्न से लेकर फल-सब्जी व दूध की आवश्यकता के अनुसार आपूर्ति हुई । इससे साफ है कि स्थानीय स्तर पर रोजगार की अपार संभावनाएं हैं। सरकार मनरेगा, प्रधानमंत्री आवास व प्रधानमंत्री सड़क योजना के माध्यम से रोजगार दे रही है।

केंद्रीय मंत्री तोमर ने कहा कि पहले कहा जाता था कि भाजपा को चुनाव के समय राममंदिर, धारा-370, तीन तलाक व नागरिक संशोधन कानून की याद आती है। लेकिन केंद्र सरकार ने इन समस्याओं को हल कर दिखाया है। राममंदिर का निर्माण शुरू हो गया। जम्मू-कश्मीर देश की मुख्यधारा से जुड़ गया है। तीन तलाक पर फैसले से अल्पसंख्यक बहनें खुश हैं। इसके अलावा उतार-चढ़ाव के विकास का पहिया चल निकला है। एक सवाल के जवाब में उन्होंने ने कहा कि यह खुशी की बात है कि देश में पलायन भूखमरी के कारण नहीं हुआ है। चार पैसे अधिक कमाने के लिए हुआ है। मेहनतकश लोग घर लौटे हैं। इनके पास हुनर है। कोरोना के बादल छंटते ही फिर यह लोग लौट जाएंगे और जो लोग रह जाएंगे। उनके सामने रोजगार की कोई समस्या नहीं होगी। सरकार रोजगार सृजित करने का प्रयास कर रही है।