कलेक्टर, एसपी एवं जनप्रतिनिधियों ने…
अग्नि दुर्घटना में मृत व्यक्तियों के परिजनों को मिली 28 लाख की सहायता राशि

ग्वालियर। रोशनी घर इन्दरगंज के पास स्थित पेंट एवं पीओपी, पुट्टी आदि की दुकान में सोमवार को अचानक आग लगने के कारण गोयल परिवार के 7 लोगों की जलकर दु:खद मृत्यु हो गई थी। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रत्येक मृतक के परिजनों को 4 लाख रूपए के मान से कुल 28 लाख की आर्थिक सहायता राशि स्वीकृत की थी, जो आज मृतकों के परिजनों के बैंक खातों में जमा कर दी गई है। 

कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह, पुलिस अधीक्षक नवनीत भसीन, भारतीय जनता पार्टी के जिलाध्यक्ष कमल माखीजानी एवं पूर्व विधायक मुन्नालाल गोयल, एसडीएम लश्कर सी बी प्रसाद सहित जनप्रतिनिधियों ने इंदरगंज में मृतकों के निवास पहुँचकर परिजनों से घटना के संबंध में चर्चा कर राजस्व पुस्तक परिपत्र 6-4 के तहत कुल 28 लाख की आर्थिक सहायता राशि के पत्र प्रदान किए। 

कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक एवं पूर्व विधायक ने परिजनों से घटना के संबंध में चर्चा करते हुए घटना को दु:खद बताते हुए कहा कि भविष्य में इस प्रकार की घटना न हो, इसके लिये विशेष प्रबंध किए जायेंगे। अग्निकांड के कारण जो अन्य क्षति हुई है। उसका आंकलन कर मुख्यमंत्री सहायता कोष के तहत प्रकरण तैयार कराए जायेंगे। जिससे नियमानुसार सहायता राशि प्राप्त हो सके। 

सोमवार को हुई अग्निदुर्घटना में कु. आराध्या (4 वर्ष) पुत्री सुमित गोयल, आर्यन (10 वर्ष) पुत्र साकेत गोयल, शुभि (13 वर्ष) पुत्री श्याम गोयल, आरती (37 वर्ष) पत्नी श्याम गोयल, शकुन्तला (60 वर्ष) पत्नी जयकिशन गोयल, प्रियंका (33 वर्ष) पत्नी साकेत गोयल और मधु (55 वर्ष) पत्नी हरिओम गोयल की मृत्यु हो गई थी। 

इंदरगंज के पास सोमवार को पेंट एवं पीओपी पुट्टी की दुकान में हुए अग्निकांड के दौरान महेश बाथम पुत्र गणेशराम बाथम द्वारा अपनी जान की परवाह किए बिना एक 6 वर्ष की बच्ची को सुरक्षित निकालकर लाया गया। इस साहसिक कार्य के लिये कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने 11 हजार रूपए पुरस्कार राशि एवं प्रशस्ति पत्र देने की घोषणा की है, जबकि पूर्व विधायक मुन्नालाल गोयल ने श्री बाथम को 5 हजार 100 रूपए की राशि पुरस्कार के रूप में प्रदान कर कार्य की सराहना की ।