CM शिवराज का अधिकारियों को निर्देश…

सामान्य बीमारियों का इलाज ना करने वालों पर हो कार्रवाई : मुख्यमंत्री


भोपाल। देशभर में कोरोना वायरस से बचाव के लिए मुहिम छेड़ी जा रही है. मध्य प्रदेश में भी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान लगातार कोशिश कर रहे हैं. आज भी उन्होंने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा की. उन्होंने प्रदेश भर के अफसरों को निर्देश दिए कि कोरोना के थोड़े भी लक्षण पाए जाने पर टेस्टिंग की जाए.

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कहा कि रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों में आयुर्वेदिक, होम्योपैथीक एवं युनानी दवाओं का भी नि:शुल्क वितरण किया जाए. प्रदेश में मुरैना, छिंदवाड़ा एवं खरगौन में कोरोना के पॉजिटिव सामने आए हैं, यहां सभी व्यवस्थाएं हो.

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि सामान्य बीमारियों के इलाज के लिए जो निजी चिकित्सालय इंकार करें उन पर कार्रवाई की जाए. जो विद्यार्थी मेडिकल ग्रेजुएट हो गए हैं, वे भी स्थानीय शासकीय चिकित्सालयों में अपनी सेवाएं दें सकेंगे.

मुख्यमंत्री ने कहा कि 14 लैब में 1,000 टेस्ट प्रतिदिन किए जाएं. वर्तमान में प्रदेश में 29,795 पीपीई किट्स हैं तथा हम 5 हजार पीपीई किट्स प्रतिदिन बांटने की स्थिति में हैं. ये किट्स संभागीय मुख्यालयों को पहुंचाए जा रहे हैं.

गोलियों की संख्या 2 लाख 25 हजार है. आगामी चार दिनों में 10 लाख गोलियां और मिल जाएंगी. एन-95 मास्क की संख्या 1 लाख 14 हजार है, 50 हजार आज वितरित कर दिए जाएंगे. ऑक्सीजन सिलेंडर 3,324 है, 1,000 का ऑर्डर दिया गया है.