CM ने ली बैंकर्स की बैठक…

नगदी की कमी न हों इसलिए लोगों तक पहुंचें बैंक : शिवराज


भोपाल l मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंत्रालय में बैंकों की राज्य स्तरीय सलाहकार समिति की बैठक ली. बैठक में उन्होंने कहा कि कोरोना संकट के चलते प्रदेश में लॉकडाउन की स्थिति है. कई स्थानों को सील भी किया जा चुका है.ऐसे में जनता को आवश्यकता के लिए नगद राशि उपलब्ध कराने के लिए बैंके घर पहुंच सेवा प्रदान करें.

सीएम चौहान ने कहा कि खाताधारकों को विभिन्न शासकीय योजनाओं की राशि गांव में ही निकालने की सुविधा भी प्रदान की जाए. बैंकों के ए.टी.एम. में पैसे रहें.डिजिटल भुगतान को प्रेरित किया जाए. इस कार्य के लिए बैंक अपनी शाखावार तथा ग्रामवार माइक्रो प्लानिंग करें. इस बैठक में मुख्य सचिव  इकबाल सिंह बैंस, राज्य स्तरीय बैंकर्स समिति के संयोजक सेन्ट्रल बैंक ऑफ इंडिया के फील्ड महाप्रबंधक  एस.डी. माहुरकर एवं अन्य संबंधित अधिकारी उपस्थित थे.

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि कोरोना संकट के चलते सभी बैंकों में मॉस्क, सेनेटाईजर, ग्लव्स आदि सभी सुरक्षात्मक उपाय किए जाएं. साथ ही उन्होंने कहा कि लेन-देन के समय बैंक कर्मचारी एवं ग्राहकों के बीच पर्याप्त दूरी रखी जाए. सभी बैंककर्मी अपनी सेहत का पूरा ध्यान रखें. बैंक शाखाओं में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए एक बार में कम संख्या में ग्राहकों को प्रवेश दिया जाए.

मुख्यमंत्री ने सुझाव दिया कि बड़े शहरों में एक ही इलाके में कुछ बैंकों की अधिक शाखाएं रहती हैं. इसलिये शाखाओं को मिलाकर एक शाखा चालू रखी जा सकती है और अधिक काउंटर बनाकर भीड़ कम की जा सकती है. मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि बैंक की शाखाओं में ग्राहकों की संख्या को नियंत्रित करने एवं भीड़ न लगने देने के लिए बैंक के सुरक्षाकर्मियों के साथ स्थानीय पुलिस की भी व्यवस्था की जाए.इस कार्य को संबंधित जिले के कलेक्टर सुनिश्चित करें.

मुख्यमंत्री ने कहा कि कई बैंकर्स शहर से गांव में तथा गांव से शहर में अप-डाउन करते हैं. इससे संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है तो कोरोना संकट के मद्देनजर इसे रोका जाए. मुख्यमंत्री ने कहा कि लॉकडाउन के मद्देनजर बैंकिंग कॉरेस्पोंडेंट  एवं कियोस्क के माध्यम से बैंकिंग सेवाएं सुनिश्चित की जाएं. साथ ही शहरों में मोबाइल वैन, ए.टी.एम. के माध्यम से तथा ग्रामीण क्षेत्रों में पोस्ट ऑफिस एवं ग्रामीण डाक सेवकों के माध्यम से भी बैंकिंग सेवाएं दी जाएं. गौरतलब है कि बैंकों द्वारा 10 हजार 343 बी.सी. के माध्यम से गांव -गांव  जाकर राशि भुगतान का माईक्रो प्लान तैयार किया जा रहा है.

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि ग्रामीण एवं उप-नगरीय क्षेत्रों में बैंकों द्वारा संचालित किए जाने वाले पॉइंट निर्धारित दिन एवं समय पर खुलें, जिससे जनता द्वारा उनके माध्यम से आवश्यकतानुसार राशि निकाली जा सके. बैंक अधिकारी ने बताया कि बैंकों द्वारा भुगतान के लिए प्रदेश में 16 हजार 700 फिक्स पॉइंट ग्रामीण एवं उप नगरीय क्षेत्रों में संचालित किए जा रहे हैं. इसके साथ ही, प्रदेश में लगभग 8 हजार 500 ग्रामीण पोस्ट ऑफिस तथा लगभग 9 हजार ग्रामीण डाक सेवक कार्यरत हैं. इनके माध्यम से भी बैंकिंग सेवाएं ग्रामों में प्रदाय किए जाने के निर्देश दिए गए.