सरकार और पुलिस हर जगह मौजूद नहीं रह सकती…

आत्मरक्षा के लिए एक विशेष टेक्निक दांवपेच जरूरी है : अनूप साहू


ग्वालियर l भारत सरकार ने बेटियों को बचाने और बेटियों को बढ़ाने के लिए पहल करते हुए नारा दिया है बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ। लेकिन बेटी बचेगी तो तब, जब वह सुरक्षित होगी, बेटी को बचाने के लिए उसे सुरक्षा देने के लिए सरकार और पुलिस हर जगह मौजूद नहीं रह सकती।

इसलिए बेटियों को स्वयं की आत्म रक्षा  करना आना चाहिए। आत्मरक्षा के लिए एक विशेष टेक्निक दांवपेच जरूरी है जिसके आधार पर बेटियां आत्मरक्षा कर सकती हैं ।  इस तकनीक को सीख कर बेटियों को आत्मनिर्भर बनना ही होगा ।

इसी उद्देश्य को ध्यान में रखकर जीवाजी यूनिवर्सिटी के सहयोग से द फाइट बैक बारियर्स एंड वर्ल्ड वाइड सिक्योरिटी ऑर्गेनाइजेशन द्वारा एक वर्कशॉप का आयोजन जीवाजी यूनिवर्सिटी के जिम्नेशियम हॉल में 2 जनवरी 2020 से 5 जनवरी 2020 तक किया जा रहा है।

इस वर्कशॉप में 50 से अधिक शहर की बालिकाओं और महिला पुलिसकर्मियों एवं  को लीथल सेल्फ डिफेंस टेक्निक्स एवं टैक्टिस का प्रशिक्षण दिया जाएगा। इस वर्कशॉप में प्रशिक्षक के तौर पर रशियन स्पेशल आर्म्ड फोर्स के एक्स ऑफिसर ग्रैंडमास्टर बेड एम्स स्टाफ एवं बॉक्सिंग एवं भारत से एक्स सिविल पुलिस एंड आर्मी इंस्ट्रक्टर क्रैवमागा कराटे एक्सपर्ट सेंसर ही अनूप साहू रहेंगे जो बालिका एवं महिला पुलिसकर्मियों को आत्मरक्षा के गुर सिखाएंगे।

उक्त वर्कशॉप का शुभारंभ मध्यप्रदेश शासन की महिला बाल विकास मंत्री इमरती देवी, जीवाजी विश्वविद्यालय कुलपति संगीता शुक्ला, विधायक मुन्ना लाल गोयल ,विधायक प्रवीण पाठक ,अपेक्स बैंक के चेयरमैन अशोक सिंह, आईएएस संदीप माकिन, आईपीएस डीआईजी एके पांडे, आईपीएस नवनीत भसीन, संजय अग्रवाल, दुष्यंत साहनी ,डॉ केशव सिंह गुर्जर, राजेंद्र सिंह नाती, रिटायर्ड मेजर प्रभाकर सिंह ,राजेंद्र सिंह तोमर आदि अतिथियों के आतिथ्य में किया जाएगा।