कारम डैम की तबाही का जिम्मेदार !

ठेकेदार करा रहा है दंदरौआ धाम में धार्मिक आयोजन !

ग्वालियर। भिंड जिले के दंदरौआ धाम में चल रहे सियपिय मिलन समारोह के दौरान मची भगदड़ में एक महिला की मौत ने इस पूरे आयोजन पर सवाल खड़े कर दिए हैं। नेताओं के लाव लश्कर के बीच आयोजन की व्यवस्थाएं संभालने में प्रशासन की नाकामी भी सामने आ गई।

सूत्रों के अनुसार यह आयोजन उसी ठेकेदार द्वारा कराया जा रहा है जो मध्यप्रदेश के कारम डैम की तबाही का जिम्मेदार है। दंदरौआ धाम में चल रहे इस धार्मिक आयोजन को कराने वाले अशोक भारद्वाज हैं। यह वही ठेकेदार है जिसकी भी कारण बांध का ठेका दिल्ली की एक ब्लैक लिस्टेड कंपनी को देकर अशोक भारद्वाज को पेटी कांट्रेक्टर के रूप में ठेका दिया गया था। इतना ही नहीं बांध निर्माण की लागत भी 105 करोड़ रुपए से बढ़ा कर 305 करोड रुपए कर दी गई थी। कारम बांध की तबाही के लिए जिम्मेदार इस ठेकेदार पर अब तक कोई कार्रवाई भी नहीं हुई है। 

एक केंद्रीय मंत्री सहित राज्य सरकार के कई मंत्री और सांसद भी यहां ढोक लगा चुके हैं। शिवराज सरकार के कुछ और मंत्रियों के भी यहां आने की संभावना है। इस बीच मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के राज्य सचिव जसविंदर सिंह ने पूछा है कि यह रिश्ता क्या कहलाता है। उन्होंने कहा कि ठेकेदार अशोक भारद्वाज के भाजपा नेताओं से रिश्तों के कारण ही कारम डैम की तबाही के लिए जिम्मेदार उसके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई।

दंदरौआ धाम में भगदड़ मचने और इस भगदड़ में एक महिला की मौत होने के बाद भी इस घटना के लिए जिम्मेदार कौन है यह अब तक तय नहीं हो पाया है। इस भव्य आयोजन से भ्रष्ट ठेकेदार अशोक भारद्वाज का लोक परलोक सुधरेगा, यह तो नहीं पता लेकिन नेताओं की आवभगत में लगे प्रशासन ने एक महिला को मौत जरूर दे दी है।