नगरनिगम हमारा पूरा परिवार है हमें

दलगत राजनीति से ऊपर उठकर शहर का विकास  होगा  है : डॉ. शोभा सिकरबार



ग्वालियर । चुनाव के बाद निगम की पहली बैठक सोमवार  5 सितंबर को जलविहार परिसर में आयोजित हुई l  बैठक में पार्षदों ने एक आवाज में जल, सीवर और सड़क की समस्यायें  उठाई l साथ ही अधिकारियो के प्रति अपना आक्रोश भी जाहिर हुए सभापति से शिकायत करते कहा की अधिकारी पहले तो उनका फोन नहीं उठाते है और यदि फोन उठा भी लेते हैं तो काम नहीं करते है l इस बात को लेकर पार्षदों आक्रोश देखने को मिला। सभापित मनोज तोमर के माध्यम से आयुक्त से पूछा कि इन समस्याओं का समाधान कब तक होगा।

पार्षदों के आक्रोश देख नगरनिगम परिषद की बैठक में मौजूद महापौर शोभा सिकरबार सभी को आश्वस्त करते हुए बोली कि हमको दलगत राजनीति से ऊपर उठकर शहर को  समस्या मुक्त और कचरे से मुक्त कराकर साफ सुथरी सड़के, सीवर और पानी की समस्या से समाधान कराना है, हम सभी नगरनिगम परिवार के सदस्य है हमारी जिम्मेदारी सभी पार्षदों के कार्यो को करना है और पार्षदों की जो भी समस्या उनका समाधान करना है। श्रीमती सिकरवार में अपना अनुभव बताते हुए कहा कि मैने भी कई बार अधिकारीयों को फोन किया है  तो अधिकतर अधिकारी-कर्मचारी बीमारी का बहाना बनाते हैं।


उन्होंने कमिश्नर की ओर मुखातिव होकर सख्त लहजे में कहा  कि आप  इंतजार कर रहे है जब कोई दुर्घटना हो तभी हम उसे ठीक करेंगे। उन्होंने कहा कि सभी पार्षदों मिलकर शहर को स्वच्छ बनायेंगे और आयुक्त महोदय से कहूंगी सभी पार्षदों की समस्याओं को गंभीरता से लेते हुए समस्याओं का समाधान करायेंगे।कांग्रेस पार्षद अवधेश कौरव बोले जल, सीवर और स्ट्रीट लाईट की समस्या उठाई। इनको जोनवाइज ठेकेदार के देकर किये जाये। समय सीमा में सीवर और सड़क और स्ट्रीट लाईट की समस्याओं का समाधान हो और मौके पर सफाई कर्मचारियों का निरीक्षण हों। एक पार्षद ने बैठक में नगरनिगम के अधिकारी पार्षदों की नहीं सुनते हैं मेरा कहना है कि स्मार्ट सिटी लाईट समय पर ठीक होना चाहिये।

पार्षद अनिल सांखला ने आरोप लगाते हुए कहा कि 50-50 प्रतिशत अमृत का पानी आ रहा है इस संबंध में मेरा कहना है कि उसे प्रतिदिन के लिये नियमित किया जाये। पम्प अटेण्डरों को बोरिंग चालू करने के लिये भेजा जाये। इसी बीच कांग्रेस और भाजपा पार्षदों के बीच गहमा-गहमी हो गयी तो सभापति ने शांत कराया।भाजपा पार्षद मोहित जाट ने कहा समस्याओं से लड़ते-लड़ते शाम हो जायेगी, तो उन्होंने सुझाव दिया है कि पार्षद नगरनिगम के पार्षद को बात करने के लिये नगर निगम का एक अधिकारी नियुक्त किया जिससे वह बात कर सके। एक पार्षद ने परिषद की बैठक में 700 आउर्टसोर्स कर्मचारियों की भर्ती में कितना आरक्षण दिया गया है तो बताया कि प्रायवेट कंपनी के माध्यम से रखे गये है।

नेता प्रतिपक्ष का किया गया स्वागत

निगम परिषद के विशेष सम्मेलन के दौरान भाजपा जिलाध्यक्ष श्री कमल माखीजानी द्वारा निगम परिषद को भेजे गए पत्र में श्री हरिपाल को नेता प्रतिपक्ष मनोनीत किये जाने की सूचना दी गई। इस पर निगम परिषद के सभी पार्षदगणों ने उनका फूलमाला पहनाकर स्वागत l