समाज का फैसला ना मानने पर लगेगा जुर्माना...

 प्रदेश के पांच गांवों में ब्राह्मणों से पूजा-पाठ कराने की मनाही


शिवपुरी l शिवपुरी के कैलारस में लोधी समाज के पांच गांवों के लोगों ने शादी-विवाह और अन्य मांगलिक कार्यों में पंडितों को न बुलाने का फैसला किया है। लोधी समाज के लोगों ने पंडितों से मांगलिक कार्य न कराने का फैसला किया। लोधी समाज के लोगों ने ब्राह्मणों से मांगलिक कार्य न कराने का फैसला किया। शिवपुरी जिले के कोलारस में गुरुवार को ओबीसी महासभा ने पांच गांवों में पंडितों से पूजा-पाठ समेत शादी विवाह जैसे मांगलिक कार्यों को न कराने का फैसला लिया है। समाज का जो व्यक्ति इस फैसले के खिलाफ जाकर मांगलिक कार्यों के लिए पंडितों से पूजा पाठ कराएगा उसे 51 सौ रुपये जुर्माना देना होगा।

दरअसल कोलारस नगर के डॉक्टर भीमराव अंबेडकर पार्क में गुरुवार को एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। ओबीसी महासभा द्वारा आयोजित कार्यक्रम में बड़ी संख्या में एसटी-एससी और ओबीसी वर्ग के लोग जुटे थे। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर प्रीतम लोधी को बुलाया गया था, लेकिन स्वास्थ्यगत कारणों के चलते उनके बेटे राकेश लोधी कार्यक्रम में शामिल हुए। ओबीसी महासभा ने दलित, पिछड़ा और आदिवासियों पर हो रहे अत्याचारों के खिलाफ एक ज्ञापन भी एसडीएम को सौंपा गया था। ओबीसी महासभा में कैलारस के पांच गांवों के ग्रमीणों ने संगठित होकर किसी भी मांगलिक कार्य, पूजा-पाठ, शादी विवाह जैसे अवसरों पर पंडितों को न बुलाने का फैसला किया है। वॉर्ड क्रमांक 15 के जिला पंचायत सदस्य मनीराम लोधी ने पंचनामे को ओबीसी महासभा के मंच पर खड़े होकर सभा में उपस्थित लोगों को सुनाया। 

पंचनामे के अनुसार 31 अगस्त को पांच गांव, शंकरपुर, भडोरा, टपरियन, हीरापुर, पुरैनी में रहने वाले लोधी समाज के लोगों ने तालाब महादेव मंदिर शंकरपुर में एकत्रित होकर फैसला लिया, कि वे सभी लोधी समाज के लोग कथा, शादी-विवाह व हवन एवं अन्य मांगलिक कार्यों में पंडितों को नहीं बुलाएंगे और यदि कोई भी लोधी समाज का व्यक्ति पंडितों को कार्यक्रमों में बुलाता है तो उस पर लोधी समाज के द्वारा 5100 रुपये का दंड लगाया जाएगा। समाज के इस फैसले पर पांचों गांव के लोधी समाज ने सहमति के साथ एक पंचनामा भी बनाया है। वहीं, लोधी समाज का जो भी व्यक्ति इस पंचनामे को स्वीकार नहीं करेगी उसे समाज से बहिष्कृत कर दिया जाएगा। वहीं, ओबीसी महासभा में शामिल होने पहुंचे प्रीतम लोधी के पुत्र राकेश लोधी ने बताया कि अगर लोगों को न्याय नहीं मिला तो उनके पिता प्रीतम लोधी के द्वारा बड़ा आंदोलन किया जाएगा। राकेश लोधी ने बताया कि प्रशासन द्वारा एसटी, ओबीसी, दलित वर्ग पर लगातार दबाव बनाया जा रहा है। इसके बावजूद लोग समाज के आव्हान पर एकत्रित हो रहे हैं और उनका समर्थन कर रहे हैं।