नीलम-झेलम हाइड्रोपावर प्रॉजेक्ट का काम बंदकर बिजली के लिए तरसाया...

चीन ने फिर दिया पाकिस्तान को झटका

बीजिंग। बिजली और ईंधन की कमी से दो-चार हो रहे पाकिस्ताीन को करीबी दोस्त चीन ने बड़ा झटका दिया है। चीन के इंजीनियरों और कर्मचारियों ने पाकिस्तामन अधिकृत कश्मीहर (पीओके) में स्थित 969 मेगावाट के नीलम-झेलम हाइड्रोपावर प्रॉजेक्टम के मरम्म त के काम को इस साल जुलाई महीने से ही बंद कर दिया है। चीन ने यह कदम उस समय पर उठाया है, जब पाकिस्ताान लगातार ऊर्जा और बिजली की कमी का सामना कर रहा है। चीन ने मरम्मयत के काम को बंद करने की पीछे वजह जाहिर की हैं, कि स्थातनीय लोग पनबिजली परियोजना के खिलाफ जोरदार व‍िरोध कर रहे हैं।चीन ने कहा है कि पाकिस्तािनी पुलिस उसके कर्मचारियों को सुरक्षा देने में नाकाम साबित हुई है।

इस बीच चीन के अचानक से बिजली परियोजना से हटने से इस्लाेमाबाद और बीजिंग के बीच हाइड्रो पावर प्रॉजेक्टउ को लेकर तनाव पैदा हो गया है। यह बिजली परियोजना पीओके की कथित राजधानी मुजफ्फराबाद के पास स्थित है। ये चीनी इंजीनियर एक महत्वटपूर्ण सुरंग को खोलने पर काम कर रहे थे। यह‍ बिजली परियोजना 508 अरब रुपये की है और 3 साल तक काम करने के बाद अचानक से बंद हो गई है। इससे पाकिस्ताेन और चीनी अधिकारियों के बीच संयुक्त0 परियोजनाओं को लेकर गंभीर मतभेद पैदा हो गए हैं।

इसमें नीलम-झेलम प्लांेट के साथ-साथ खासतौर पर दासू, मोहम्मैद पावर प्रॉजेक्ट  भी शामिल हैं। करीब 3.5 किमी लंबी इस सुरंग से प्लां ट से पानी को नदी में पहुंचाया जाता है। इस सुरंग में गंभीर गड़बड़ी आ गई है। इससे पूरे प्लांवट को पूरी तरह से बंद करना पड़ा है। प्लां ट के बंद होने से पाकिस्ताचन में बिजली का गंभीर संकट पैदा हो गया है। बताया जा रहा है कि सुरंग में दरार आ गई है।