फर्जी कॉल सेन्टर के जरिये दुबई में नौकरी लगवाने के नाम पर... 

क्राइम ब्रांच ने दुबई में नौकरी लगवाने के नाम पर  ठगी  करने वालों को दबोचा 

ग्वालियर। अति. पुलिस महानिदेशक ग्वालियर जोन  डी.श्रीनिवास वर्मा के  द्वारा विगत दिनों की गई बैठक में बढ़ते सायबर अपराधों की रोकथाम हेतु संबंधित को निर्देशित किया गया था। पुलिस अधीक्षक ग्वालियर अमित सांघी को फरियादी आशीष शास्त्री निवासी लक्कड़खाना पुल, माधोगंज जिला ग्वालियर द्वारा विगत माह एक शिकायती आवेदन पत्र नौकरी के नाम पर 73 लाख 30 हजार रूपये की ठगी किये जाने के संबंध में दिया गया था। मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस अधीक्षक ग्वालियर द्वारा अति. पुलिस अधीक्षक शहर (पूर्व/अपराध) राजेश डण्डोतिया को क्राइम ब्रांच की टीम बनाकर उक्त ठगी के रैकेट का पर्दाफाश करने हेतु निर्देशित किया। 

पुलिस अधीक्षक ग्वालियर के निर्देश पर शिकायती आवेदन पत्र की जांच उपरान्त थाना क्राईम ब्रांच ग्वालियर में दो आरोपियों के खिलाफ अप.क्र. 41/2022 धारा 420, 406 भादवि का कायम कर विवेचना में लिया गया। उक्त प्रकरण के आरोपियों की तलाश कर प्रकरण का खुलासा करने के लिए  पुलिस अधीक्षक ग्वालियर द्वारा दिनांक 24.07.2022 को एसआईटी का भी गठन किया गया था।

 वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देशों के परिपालन में नगर पुलिस अधीक्षक मुरार ऋषिकेश मीणा,डीएसपी अपराध ग्वालियर रत्नेश तोमर एवं विजय भदौरिया के मार्गदर्शन में में एसआईटी एवं काईम ब्रांच की टीम को उक्त प्रकरण का खुलासा कर आरोपियों को गिरफ्तार किया गया  पुलिस टीम को विवेचना के दौरान आये तकनीकी साक्ष्यों के आधार पर उक्त प्रकरण के दोनों आरोपियों की तलाश के लिये दिल्ली भेजा गया। पुलिस टीम को जरिए मुखबिर सूचना प्राप्त हुई कि उक्त प्रकरण के एक आरोपी का कार्यालय डीडीए फ्लेट नं. 129 न्यू रंजीत नगर, नई दिल्ली में है। पुलिस टीम द्वारा आरोपी के कार्यालय पर दबिस दी गई तो उक्त प्रकरण का एक आरोपी अपने कार्यालय में मौजूद मिला। जिससे नौकरी के नाम पर की गई धोखाधड़ी के संबंध में पूछताछ की गई तो उसने बताया कि वह अपने दोस्त के साथ मिलकर फर्जी कॉल सेंटर संचालित करता है एवं thejobkart.com नाम की वेबसाईट के माध्यम से लोगों को दुबई में जॉब दिलाने के नाम पर धोखे से रूपये ऐंठता है। अभी तक आरोपियों से जप्त मशरूका:- 08 लेपटॉप, 02 मॉडम, 08 वायरलेस टेलीफोन, 01 मोबाइल फोन  तथा 06 लाख रूपये नगद व दस्तावेज आदि मिल चूका है ।

पकड़े गये आरोपी द्वारा फरियादी आशीष शास्त्री के साथ नौकरी लगवाने के नाम पर 73 लाख रूपये की धोखाधड़ी की बात भी स्वीकार की। कॉल सेंटर की तलाशी लेने पर पुलिस टीम द्वारा कम्प्यूटर उपकरण व अन्य संचार उपकरण तथा अन्य कागजतों को जप्त किया गया। पकड़े गये आरोपी की निशादेही पर उसके घर में रखी अलमारी से 06 लाख रूपये नगद जप्त किये गये। पकडे़ गये आरोपी के कॉल सेंटर से मिले दस्तावेजों की प्रारंभिक जांच में ज्ञात हुआ है कि इनके द्वारा कई अन्य लोगों को भी नौकरी लगवाने के नाम पर फ्रॉड का शिकार बनाया होगा या प्रयास किया गया होगा। पकड़े गये आरोपी के पास से मिले रिकॉर्ड के आधार पर इन लोगों द्वारा लगभग 01 करोड़ 29 लाख रूपये से अधिक की ठगी किया जाना परिलक्षित हुआ है। पुलिस का मानना है कि इन लोगों द्वारा दिल्ली में नेटवर्क स्थापित कर पूरे देश में हजारों लोगों को अपना शिकार बनाया होगा। पकड़े गये आरोपी को पुलिस रिमाण्ड पर लेकर विस्तृत पूछताछ की जाएगी, जिसमें इनके द्वारा नौकरी के नाम पर किये गये फ्रॉड की अन्य बारदातों का भी खुलासा होने की संभावना है।  

ग्वालियर में 09.07.2022 को फरियादी आशीष शास्त्री निवासी लक्कड़खाना पुल,ग्वालियर द्वारा दो व्यक्तियों द्वारा नौकरी लगवाने के नाम पर 73 लाख 30 हजार रूपये की ठगी करने संबंधी एक शिकायती आवेदन पत्र प्रस्तुत किया गया, जिसमें लेख किया गया था कि माह जून 2020 में  thejobkart.com नाम की वेबसाईट से कॉल आया था जो कि मेरी दुबई में नौकरी लगवाने के लिये बोल रहा था। नौकरी के एबज में उसके द्वारा मुझसे पैसे मांगे गये, मैं बातों में आ गया और उसके बताये अनुसार Razorpay के माध्यम से दिनांक 27.06.2022 को एक्सिस बैंक के खाते से मैने 44 हजार रूपये ट्रांसफर कर दिये। इसके बाद मुझ पर दबाव बनाकर उसने 70,900/-रूपये  Razorpay  के माध्यम से लिये। इस प्रकार इन लोगों के द्वारा मुुझसे दुबई में नौकरी लगवाने के नाम पर कुल 73 लाख 30 हजार रूपये ऐंठे जा चुके हैं। पैसे वापस मांगने पर इन लोगों द्वारा मुझे धमकाया जाने लगा। क्राईम ब्रांच ग्वालियर द्वारा फरियादी की शिकायत पर दो आरोपियों के खिलाफ अप0क्र0 41/2022 धारा 420, 406 भादवि का कायम कर विवेचना में लिया गया।

सराहनीय भूमिका:- उक्त फर्जी कॉल सेन्टर का पर्दाफाश कर आरोपी को पकड़ने में थाना प्रभारी क्राईम ब्रांच निरीक्षक दामोदर गुप्ता, उनि. शैलेन्द्र शर्मा, नितिन छिल्लर, धर्मेन्द्र शर्मा, प्र.आर. मनीष चौहान, आर. राघवेन्द्र भदौरिया,जितेन्द्र बरैया, सुमित शर्मा, जितेन्द्र तुर्रेले, म.आर. राखी बैस की सराहनीय भूमिका रही है।