कांग्रेस ने टीएमसी पर लगाया बीजेपी से सांठ-गांठ का आरोप…

उपराष्ट्रपति चुनाव में मतदान नहीं करेगी TMC

नई दिल्ली। ममता बनर्जी ने एक बड़ा फैसला लेते हुए उपराष्ट्रपति चुनाव में वोटिंग से दूर रहने का फैसला किया है। टीएमसी सांसद और उनके भतीजे अभिषेक बनर्जी ने बताया कि TMC उपराष्ट्रपति चुनाव में वोटिंग से दूर रहेगी। आपको बता दें कि शरद पवार के घर पर हुई विपक्षी दलों की बैठक में, कांग्रेस की वरिष्ठ नेता मार्गरेट अल्वा को विपक्ष का संयुक्त उम्मीदवार बनाने का फैसला किया गया था। ममता बनर्जी इस बैठक में भी शामिल नहीं हुई थीं। बाद में शरद पवार ने भी उनसे फोन पर बात कर विपक्ष की उम्मीदवार मार्गरेट अल्वा का समर्थन करने का आग्रह किया था। इस पर टीएमसी ने संसदीय दल की बैठक के बाद फैसला करने की बात कही थी। 

लेकिन अब टीएमसी ने उपराष्ट्रपति चुनाव में मतदान नहीं करने का फैसला किया है। TMC का कहना है कि जिस तरह के विपक्ष के उम्मीदवार को चुना गया है, वो ठीक नहीं है। हमारी 36 सांसदों वाली पार्टी से बिना सलाह-मश्विरा के किसी उम्मीदवार का फैसला करने के विरोध में हमारे सांसदों ने मतदान जाहिर है इससे विपक्षी एकता को झटका लगा है। कांग्रेस ने तो टीएमसी पर बीजेपी के सांठ-गांठ का भी आरोप लगाया है। आपको बता दें कि राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार यशवंत सिन्हा, टीएमसी के ही सदस्य थे और विपक्ष ने उनका पूरा साथ दिया। वैसे कई सांसदों-विधायकों के क्रॉस वोटिंग की भी चर्चा है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की सिंगापुर यात्रा के प्लान पर पानी फिर गया है। दिल्ली के उपराज्यपाल विनय कुमार सक्सेना ने इससे जुड़ी फाइल को ख़ारिज करते हुए कहा कि मेयर के सम्मेलन में मुख्यमंत्री का भाग लेना उपयुक्त नहीं है। 

मिली जानकारी के मुताबिक एलजी ने प्रस्ताव को वापस लौटाते हुए कहा कि सिंगापुर के इस सम्मेलन में शहरी शासन के विभिन्न पहलुओं पर चर्चा की जाएगी। दिल्ली में इनकी जुड़ी संस्थाएं दिल्ली नगर निगम (MCD), दिल्ली विकास प्राधिकरण (DDA) और नई दिल्ली नगरपालिका परिषद हैं। ऐसे में इस तरह के सम्मेलन में एक मुख्यमंत्री का शामिल होना 'अनुचित' होगा। वैसे, सीएम अरविंद केजरीवाल ने एलजी की आपत्तियों को खारिज करते हुए कहा कि मैं सिंगापुर जरुर जाउंगा। उधर, दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने आरोप लगाया कि ओछी राजनीति के तहत मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को सिंगापुर जाने नहीं दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि अब मुख्यमंत्री विदेश मंत्रालय से पॉलिटिकल क्लीयरेंस मांगेंगे।