गुरु पूर्णिमा पर ब्रह्म मुहूर्त में खुले गिर्राज मंदिरों के पट…

ओल्ड हाइकोर्ट स्थित गिर्राज मंदिर पर लगी श्रद्धालुओं की भीड़

ग्वालियर। बुधवार को गुरु पूर्णिमा पर ब्रह्म मुहूर्त में गिर्राज मंदिरों के पट खुले। सुबह से ही श्रद्धालुओं का आना शुरू हो गया और मंदिरों में कतारें लग गईं। परिक्रमा के दौरान जनसमूह उमड़ा। वहीं मंदिरों पर सुबह से भीड़ रही। शिष्यों ने अपने अपने गुरुओं का आर्शीवाद लिया। सबसे ज्यादा भीड़ ओल्ड हाइकोर्ट स्थित गिर्राज मंदिर पर दिखी। यहां आकर्षक साज सज्जा दिखी। ओल्ड हाई कोर्ट स्थित गिर्राज मंदिर पर सुबह से ही यहां परिक्रमा के काफी भीड़ थी। सुबह साढ़े चार बजे पट खोले गए और भगवान को स्नान कराया गया। इसके बाद उनका श्रृंगार व आकर्षक साज सज्जा की गई। यहां इतनी भीड़ थी कि सड़क पर भी लोग जमा दिखे। मंदिर के पुजारी गुरु पूर्णिमा के विशेष पर्व पर लोगों की प्रसादी को भगवान को अर्पित कर रहे थे। 

यहां मुख्य द्वार पर शामियाना भी लगाया गया, क्योंकि गर्मी के दौरान परिक्रमा लगाने वाले लोगों को धूप से परेशानी न हो। इसके अलावा अनाउंसमेंट की व्यवस्था भी की गई। मंदिरों में चोरों से सावधान रहने के लिए विशेष चेतावनी दी जा रही थी। वहीं बच्चों को लेकर भी अनाउंसमेंट किया जा रहा था कि वे अपने बच्चे संभालकर साथ रखें। प्रसाद के दौरान कचरा न फैलाएं, इसको लेकर अलग से डस्टबिन रखे गए थे। मंदिर प्रबंधन के अनुसार इस बार साफ सफाई का विशेष ध्यान रखा गया है। पिछली बार गुरु पूर्णिमा पर इतनी भीड़ नहीं थी, क्योंकि कोरोना काल चल रहा था। 

उधर गिर्राज मंदिर सदर बाजार मुरार पर सुबह पांच बजे से यहां श्रद्वालुओं का आना शुरू हो गया था। सुबह आरती के बाद भगवान को भोग लगाया गया और फिर दर्शन के लिए कतार जैसी स्थिति हो गई। यहां मंदिर में साज सज्जा की गई थी। इसके अलावा बाजार के आसपास भी कुछ सजावट थी। मंदिर के पुजारी मुकेश शर्मा ने बताया कि गुरु पूर्णिमा के अवसर पर विशेष इंतजाम किए गए हैं। श्रद्धालु गर्मी में परेशान न हों और जल्द दर्शन लाभ हो जाए इसको लेकर ध्यान रखा गया है। यहां सुबह से ही भंडारे शुरू हो गए और लोग प्रसादी ग्रहण कर रहे थे। सुबह से भंडारे में लंबी-लंबी कतारें दिख रही थीं। वहीं आयोजनकर्ताओं ने भी बेहतर प्रबंध किए और अलग-अलग स्टाल लगाए गए थे।