देश के वीर सपूत, शहीदों और बलिदानियों की प्रतिमा की हो रही दुर्दशा पर…

हिंदू महासभा ने नवविर्वाचित महापौर को सौंपा उनके कार्यकाल का पहला ज्ञापन

ग्वालियर में नवविर्वाचित महापौर डॉ. शोभा सिकरवार को उनके कार्यकाल का पहला ज्ञापन मिल गया है। यह ज्ञापन हिंदू महासभा ने देश के वीर सपूत, शहीदों और बलिदानियों की प्रतिमा की हो रही दुर्दशा पर दिया गया है। हिमस ने तीन मांग की है। नवनिर्वाचित मेयर डॉ. सिकरवार ने हिमस को आश्वासन दिया है कि उनकी मांगों पर एक्शन होगा। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि वह शपथ लेते ही शहीदों को नमन करने जाएंगी और वापस नगर निगम इन प्रतिमाओं की देखरेख और माल्यार्पण करेगा। बस अब शासन से शपथ ग्रहण के लिए नोटिफिकेशन आने का इंतजार है। एक दो दिन में पूरे कार्यक्रम की घोषणा हो सकती है। ग्वालियर में 17 जुलाई को नगर निगम चुनाव की मतगणना पूरी होने के बाद नए मेयर, पार्षद मिल गए हैं। वो

 बात अलग है कि अभी शासन ने शपथ ग्रहण का नोटिफिकेशन नहीं आने से शपथ ग्रहण नहीं हो सका है। साथ ही सभापति के लिए जोड़तोड़ जारी है। सदन में 66 वार्ड में से भाजपा 34 तो कांग्रेस और निर्दलीय मिलाकर 32 सीट पर काबिज हैं। ऐसे में सभापति बनाने के लिए 34 वोट चाहिए होंगे। भाजपा और कांग्रेस एक दूसरे के पार्षद तोड़ने की जोड़तोड़ में लगी है। अभी नए महापौर डॉ. शोभा सिकरवार का कार्यकाल शुरू ही हुआ है कि सोमवार को नई महापौर को नए कार्यकाल का पहला ज्ञापन मिल गया है। सोमवार को हिंदू महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ. जयवीर भारद्वाज के नेतृत्व में जिला नेताओं ने महापौर डॉ. शोभा सिकरवार से मुलाकात की और उन्हें अपनी मांगों से अवगत कराया। महापौर ने भी उनको आश्वास्त किया कि वह उनकी मांगों पर जरुर एक्शन लेंगी।

हिंदू महासभा की मांगें -

  • ग्वालियर नगर निगम सीमा के अंदर पूर्व में औषधालय निशुल्क संचालित होते थे, जिन्हें वर्तमान में विलुप्त कर दिया गया है। नगर निगम सीमा में वार्ड 66 है, ग्वालियर के अंदर कम से कम 33 निशुल्क औषधालय संचालित कर आम नागरिकों को स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराई जाए।
  • ग्वालियर नगर निगम सीमा में अनेक महापुरुषों क्रांतिकारियों व बलिदानियों की प्रतिमा स्थापित है। जिन पर पूर्व में मालाएं प्रतिदिन नगर निगम के द्वारा अर्पित की जाती थी। प्रतिमा स्थल की धुलाई की जाती थी,जिन्हें बंद कर दिया गया है । उन्हें शीघ्र प्रारंभ किया जाए।
  • नगर निगम सीमा में बनने वाली सभी सड़कों पर पानी के निकास के लिए नाली की व्यवस्था नहीं है। नाली की व्यवस्था करने के बाद ही सड़कों का निर्माण कराया जाए। टुटी सड़कों पर पेंच वर्क कराया जाए।

डॉ. शोभा सिकरवार ने बताया कि हिंदू महासभा ने मुझे ज्ञापन दिया है। ज्ञापन पर शपथ लेने के साथ ही काम किया जाएगा। उनकी मांगें जायज हैं।