नेशनल हेराल्ड केस में सोनिया गांधी को प्रवर्तन निदेशालय के समन दिए जाने के विरोध में…

कांग्रेस का ED के विरोध में देशभर में प्रदर्शन 21 जुलाई को 

नेशनल हेराल्ड केस में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को प्रवर्तन निदेशालय के समन के खिलाफ पार्टी विरोध प्रदर्शन करने जा रही है। ये विरोध प्रदर्शन केंद्र सरकार के खिलाफ 21 जुलाई को होने जा रहा है। बता दें कि सोनिया गांधी को नेशनल हेराल्ड केस में ईडी ने पूछताछ के लिए समन भेजा था। ईडी की ओर से इस मामले में राहुल गांधी को भी नोटिस भेजा गया था। राहुल गांधी ईडी के कार्यकाल में 30 घंटे से अधिक बिता चुके हैं, यहां उनसे ईडी ने नेशनल हेराल्ड केस से जुड़े कई अलग-अलग सवाल पूछे गए। बुधवार को पार्टी की ओर से काफी अहम बैठक बुलाई गई जिसमें इस मामले पर चर्चा की गई। 

इसके अलावा आज गुरुवार को भी एक बैठक बुलाई गई है जिसमें सभी सचिव, प्रदेश प्रभारी, पीसीसी चीफ को बुलाया गया है। इस बैठक में भारत जोड़ो यात्रा और संगठन के कार्यक्रम पर चर्चा होगी। बैठक में पार्टी के शीर्ष नेता शामिल होंगे और इस दौरान विरोध यात्रा और जनता तक पहुंचने के अन्य कार्यक्रमों पर भी चर्चा होगी। गौर करने वाली बात है कि 18 जुलाई से संसद का मानसून सत्र शुरू हो रहा है। ऐसे में कांग्रेस सांसद सदन के भीतर भी विरोध प्रदर्शन कर सकते हैं। कल हुई बैठक के बाद कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी शेरनी हैं। वह इन चीजों से नहीं डरती हैं। इस तरह की कई चीजें वह देख चुकी हैं। वह ईडी के दफ्तर जाएंगे और इस सरकार का सामना करेंगी। 

बता दें कि ईडी ने सोनिया गांधी को नेशनल हेराल्ड केस में समन किया है, उन्हें 21 जुलाई को सुबह 11 बजे ईडी के कार्यालय पेश होने के लिए कहा गया है। दरअसल सोनिया गांधी तबीयत खराब होने की वजह से पहले ईडी के कार्यालय नहीं जा सकी थीं, उन्हें 8 जून को पेश होने के लिए समन भेजा गया था, लेकिन उस वक्त सोनिया गांधी कोरोना संक्रमित थीं और अस्पताल में भर्ती थीं। ईडी सोनिया गांधी और राहुल गांधी का बयान इस पूरे मामले में दर्ज करना चाहती है। पिछले महीने राहुल गांधी से कई बार ईडी ने पूछताछ की थी।