7 दिन में बिजली गिरने से 47 मौतें…

प्रदेश के कई शहरों में आज भारी बारिश का अलर्ट

भोपाल। मौसम विभाग ने आज प्रदेशभर में गरज-चमक के साथ भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है। प्रदेश में 7 दिन में बिजली गिरने से 47 लोगों की मौत हो चुकी है। 70 घायल हुए। भोपाल और उसके आसपास के इलाके में हर 15 मिनट में 3500 बार बिजली गिरी। वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक वेद प्रकाश ने बताया कि सोमवार को भोपाल, जबलपुर, रीवा और सागर में कहीं-कहीं भारी और अति भारी बारिश हो सकती है। इंदौर-उज्जैन में हल्की बारिश रहेगी। नमी अधिक होने के कारण प्रदेशभर में बारिश हो रही है। भोपाल में रातभर से अब तक खूब बारिश हो चुकी है। पानी गिरने का दौर जारी है। शहर के कई निचले इलाकों में पानी भर गया। भोपाल में शनिवार आधी रात के बाद से 6 घंटे में 5 इंच से ज्यादा बारिश हुई। रविवार को दिन भर धूप रही, लेकिन शाम 7 बजे के बाद फिर बारिश शुरू हो गई। रात 8.30 तक 1 इंच पानी और बरस चुका था। यानी 20 घंटे में 6 इंच से ज्यादा बारिश हो चुकी थी। 

यह इस सीजन की सबसे तेज बारिश है। पिछले 17 साल में ऐसा पहली बार हुआ, जब जुलाई में दो बार यानी दो दिन 4.5 इंच से ज्यादा बारिश हुई। जुलाई में 17 साल में तीसरी बार यह 1 दिन की सबसे ज्यादा बारिश भी है। इस जुलाई में अब तक 13.78 इंच बारिश हो चुकी है। अब जुलाई का कोटा 14.89 इंच पूरा होने के लिए सिर्फ 1.11 इंच बारिश की जरूरत है, जबकि महीना खत्म होने में अभी 21 दिन बाकी हैं। शहर में अब तक 16.57 इंच बारिश हो चुकी है। इस बारिश का असर बड़े तालाब के लेवल पर भी पड़ा। अब तालाब का जलस्तर सीजन में सबसे ज्यादा 0.70 फीट बढ़कर 1660.50 फीट पर पहुंच गया। भोपाल में शाम 6.30 से रात 8.30 तक लाइटनिंग हाई अलर्ट था। 7 बजे से 8.30 के बीच हर 15 मिनट में औसतन 3500 बार धरती पर आकाशीय बिजली से करंट डिस्चार्ज हुआ। शनिवार को भोपाल के 40 किमी दायरे में 6926 स्थानों पर बिजली गिरी थी। 

मध्यप्रदेश में मंगलवार को बारिश से कुछ राहत रह सकती है, लेकिन 13 से नया सिस्टम बन रहा है। बंगाल की खाड़ी में 13 जुलाई से लो प्रेशर एरिया बन जाएगा। इससे फिर 13 से 17 तक जमकर बारिश होगी। मध्यप्रदेश में अगले 24 घंटे के दौरान प्रदेशभर में बारिश होगी। मध्यप्रदेश में अधिकांश इलाकों में यलो अलर्ट जारी किया गया है। पहली बार है, जब प्रदेशभर में एक साथ बारिश हो रही है। बीते 48 घंटे के दौरान बिजली गिरने से 7 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 8 लोग झुलस चुके हैं। बिजली से मौतें शहडोल, गुना, शिवपुरी, डिंडोरी, मंडला और सतना में हुईं। पिछले 24 घंटे में छिंदवाड़ा के सौंसर में सबसे ज्यादा 8 इंच पानी गिरा। छिंदवाड़ा के सौसर शहर के बीच से गुजरने वाले नाले में उफान आ गया। इससे निचले क्षेत्र में जलभराव हो गया। कई घरों में 3 फीट तक पानी भर गया। कुछ स्थानों पर तो आधे मकान पानी में डूब गए हैं। लोगों को परिवार सहित छत पर रहना पड़ रहा है।

रहवासियों का कहना है कि नाले पर लोगों ने अतिक्रमण कर उसका रास्ता सकरा कर दिया है, जिस वजह से बहाव पूरा नहीं होने के कारण यह स्थिति बनी है। कई मंदिर भी पानी में डूब गए हैं। दुकानों में पानी में भर जाने के कारण काफी नुकसान की आशंका जताई जा रही है। मध्यप्रदेश में बीते 24 घंटों के दौरान सबसे ज्यादा छिंदवाड़ा के सौंसर में 8 इंच बारिश हुई। इस सीजन में यह प्रदेश के किसी इलाके में सबसे ज्यादा बारिश रिकॉर्ड की गई। इसके अलावा विदिशा, सीहोर, भोपाल और गुना में 5-5 इंच तक पानी गिरा। रायसेन में करीब 5 पांच बारिश गिरने से अधिकतर कॉलोनियों में जलभराव की स्थिति बन गई। सिलवानी के बमोरी थाना क्षेत्र के ग्राम मजरझिर में कच्चा मकान गिर गया। इसमें एक व्यक्ति छविदास (45) की मौत हो गई, जबकि राजकुमार (27) पुत्र रामबाबू आदिवासी घायल हो गया।