श्रद्धाभाव के साथ धूमधाम से संगीतमय स्वर लहरियों के बीच…

सनातन धर्म मन्दिर में हरियाली तीज से आरम्भ हुआ 12 दिवसीय हिंडोला उत्सव

ग्वालियर। सनातन धर्म मन्दिर में रविवार को हरियाली तीज से 12 दिवसीय हिंडोला उत्सव श्रद्धाभाव के साथ धूमधाम से संगीतमय स्वर लहरियों के बीच आरम्भ हुआ। झूलन चलो हिंडोरने वृषभानु नन्दिनी, राधे झूलन पधारो घिर आए बदरा, झूला तो पड़ गए अमुआ की डार पे री, मेरी विनती यही है राधा रानी कृपा बरसाए रखना, श्रीकृष्ण गोविंद हरे मुरारे हे नाथ नारायण वासुदेव जैसे ब्रजभाव से भीगे हुए पण्डित सतीश कौशिक के सङ्गीतमय मधुर भजनों पर झूमते हुए भक्तों ने भगवान चक्रधर एवं गिरिराजधरण को आम, कदम्ब एवं मोरछ्ड़ी के पत्तों से बने सघन निकुंजमय हिंडोलों में झूला झुलाया।

एक झूले में भगवान चक्रधर, दूसरे झूले में श्रीराधाकृष्ण, तीसरे झूले में बालकृष्ण ने झूला झूला, वहीं गिरिराजधरण भी नए हिंडोले में झूला झूले। मुख्य पुजारी पण्डित रमाकांत जी शास्त्री एवं पण्डित देवेंद्र शास्त्री ने भगवान का मनमोहक हरा श्रृंगार किया।सन्ध्या आरती के उपरांत भक्तवृन्द में घेवर, पेड़े,छैने का प्रसाद वितरण किया गया। इससे पूर्व विगत दिवस भक्तगणों को तुलसी एवं पीपल के पौधे वितरण किये गए। इस अवसर पर प्रधानमंत्री महेश नीखरा, अध्यक्ष कैलाश मित्तल, नरेंद्र मंगल, राजेश गर्ग, विनोद शर्मा, रविन्द्र गर्ग,ऋषि शर्मा, राधेश्याम मंगल, भुजंग जी,श्याम गर्ग,सन्तोष जी,ब्रजेश पाठक आदि का सहयोग रहा।