महापौर और पार्षदों के चुनाव की घोषणा होने के साथ ही अब...

भाजपा और कांग्रेस कार्यालय में लगने लगा है दावेदारों का जमावड़ा !

ग्वालियर। नगर निगम में महापौर और 66 वार्ड के पार्षदों के चुनाव की घोषणा होने के साथ ही अब दावेदारों का जमावड़ा भाजपा और कांग्रेस कार्यालय में लगने लगा है। महापौर पद के लिए अभी कुछ एक आवेदन ही इन दोनों कार्यालयों पर पहुंचे हैं, जबकि पार्षद पद के दावेदार ज्यादा संख्या में हैं। भाजपा अध्यक्ष के पास पार्षद पदों के लिए डेढ़ सौ तो वहीं कांग्रेस कार्यालय में 100 दावेदारों के आवेदन पहुंचे हैं। नगरीय निकाय चुनाव की डुगडुगी दो साल की देरी से बजने के कारण महापौर और पार्षद पद के इच्छुक दावेदारों के लिए चुनाव लडऩे का अवसर सामने आ गया है। इसलिए इस बार प्रत्येक वार्ड में एक से बढक़र एक दावेदार निकल रहे हैं। 

बड़े दलों से दावेदार आवेदन देने के अलावा भोपाल के चक्कर लगा रहे हैं वहीं वरिष्ठ नेताओं के घरों पर भी सिफारिश के लिए पहुंच रहे हैं। छोटे दलों और निर्दलीय लडऩे वालों की संख्या भी बेहद बढऩे वाली है। वैसे तो चुनाव की घोषणा से पूर्व ही दावेदार भाजपा के वरिष्ठ नेताओं के यहां पहुंच कर बायोडाटा दे रहे थे लेकिन अब भाजपा मुख्यालय मुखर्जी भवन में शुक्रवार से महानगर अध्यक्ष कमल माखीजानी सुबह 11 से 1बजे तक बैठेंगे ताकि महापौर और पार्षद पद के दावेदार तसल्ली के साथ अपने आवेदन उन्हें दे सकें। अभी तक उनके पास महापौर पद के लिए दो से तीन जबकि पार्षद पद के लिए डेढ़ सौ आवेदन व्यक्तिगत रूप से आ चुके हैं। 

श्री माखीजानी ने बताया कि वैसे अभी प्रदेश संगठन से चयन को लेकर गाइडलाइन नहीं आई है, फिर भी हम आवेदन ले रहे हैं और एक निर्धारित प्रक्रिया के तहत इन नामों को प्रदेश नेतृत्व को सौंप देंगे। प्रदेश नेतृत्व द्वारा ही महापौर और पार्षद पदों के टिकट की घोषणा की जाएगी। कांग्रेस द्वारा अपने 336 पदाधिकारियों को प्रत्येक वार्ड के  प्रत्याशी को जिताने की जिम्मेदारी सौंपी है। पांच पांच पदाधिकारियों को एक एक वार्ड में रहकर कांग्रेस प्रत्याशियों के लिए कार्य करना होगा। शहर कांग्रेस अध्यक्ष देवेंद्र शर्मा ने बताया कि अभी महापौर एवं पार्षद पद के लिए किसी भी प्रत्याशी का नाम तय नहीं हुआ है। इसके लिए चयन समिति है जो महापौर पद के लिए एक से तीन नामों का, जबकि पार्षद पद के लिए एक नाम का पैनल बनाकर प्रदेश संगठन को भेजा जाएगा जिसके आधार पर टिकट की घोषणा होगी। 

वहीं महापौर पद के लिए ग्वालियर पूर्व के विधायक डॉ सतीश सिंह सिकरवार की पत्नी दो बार की पार्षद शोभा सिकरवार के नाम की चर्चा है। एक अखबार द्वारा सिंगल नाम दिए जाने से यह चर्चा जोरों पर है। यहां बता दें कि डॉ सिकरवार ने अपने पुत्र आदित्य सिकरवार के साथ पिछले दिनों भोपाल में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ से मुलाकात की थी जिसमें उनकी कई विषयों पर चर्चा हुई थी। वैसे महापौर पद के लिए रश्मि पवार शर्मा का नाम भी है लेकिन कहा जा रहा है कि आर्थिक स्थिति के कारण वह पीछे हट रही हैं। इसके साथ ही पूर्व पार्षद रीमा डॉ .देवेन्द्र शर्मा भी इस दौड़ में है।