पोते के आत्महत्या  करने का दादी को लगा सदमा…

एक साथ घर से उठी दादी-पोते की अर्थी

शिवपुरी। मध्यप्रदेश के बैराड़ में पोते द्वारा आत्महत्या कर लिए जाने की घटना के कुछ घंटे के बाद सदमे में उसकी बुजुर्ग दादी की भी मौत हो गई। युवक ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। युवक के मौत की खबर सुनकर दादी की तबीयत बिगड़ने लगी और मौत हो गई। दोहरा गम मिलने से परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। नगर में एक साथ दादी-पोते की अर्थी जिसने भी देखी आंखें नम हो गई। कस्बे में मातम छा गया। 

रविवार के दिन तीन बहनों के बीच इकलौते भाई ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। पोते के मौत की खबर सुनते ही दादी को सदमा आ गया। घटना बैराड़ के पुराने हायर सेकेंडरी स्कूल के सामने रहने वाले सतीश गर्ग के परिवार की है। यह किराना व्यापारी हैं, तीन बेटियों के बीच इकलौता बेटा था। बेटे का घर में काफी प्यार दुलार था। पूरा परिवार खुशी के साथ रह रहा था। बेटे ने रविवार के दिन आचानक बिना किसी कारण के घर के एक कमरे में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। परिजनों ने युवक को फांसी के फंदे पर लटकते देख पैरों तले जमींन खिसक गई। तत्काल नीचे उतारा और अस्पताल लेकर पहुंचे। यहां डॉक्टर ने युवक को मृत घोषित कर दिया। 

इधर, अस्पताल से आई पोते की मौत की खबर को सुनकर दादी को सदमा लग गया और दादी ने भी दम तोड़ दिया। परिजनों के मुताबिक कुछ वर्ष पहले ही युवक की मां की मौत हो गई थी। युवक और दादी के बीच काफी लगाव था वह अपनी दादी से घुलमिल कर रहता था। मां के नहीं होने के बाद दादी भी युवक को लाड़-प्यार से रखती थी। रविवार के दिन दादी को जब पोते की मौत की खबर मिली तो दादी पोते की मौत का सदमा सहन नहीं कर सकी।